Agriculture Growth : हर साल बढ़ रही है बिहार में बढ़ रही खाद्यान्न उपज से खिले किसानों के चेहरे, जानिए इस साल कितना हुआ उत्पादन

 
vvghj

भारत में इन दिनों रबी की फसल की बुवाई की जा रही है किसानों की एक बड़ी आबादी फसलों की बुआई करने में जुटी हुई है किसान की मेहनत का नतीजा है कि देश के अधिकांश राज्यों में एग्रीकल्चर का एरिया बढ़ता जा रहा है। क्षेत्र बढ़ने के कारण ही पैदावार भी हर साल बढ़ रही है। बिहार में काफी बड़ी संख्या में लोग खेती बड़े से जुड़े हैं। अच्छी बात तो यह है कि बिहार राज्य में साल बर्मी खाद्यान्न फसलों का रकबा बढ़ता जा रहा है। अभी आज की एग्रीकल्चर ग्रोथ पर एक बार नजर डालते हैं। 

साल 2021-22 में हुआ 184.86 मिट्रिक टन का उत्पादन
रिपोर्ट के मुताबिक आपको बता दे, साल 2021-22 में कुल उत्पादन 184.86 मिट्रिक टन हुआ हैं।  जबकि एक साल पहले इसका उत्पादन 179 लाख मिट्रिक टन था।  एक साल में यह 5 लाख मिट्रिक टन बढ़ गया हैं। 

गेंहू, चवाल का बढ़ा उत्पादन
2021 और 2022 के लिए खाद्यान्न उत्पादन के नवीनतम आंकड़े सामने आए हैं। उसके अनुसार बिहार में 77.17 लाख मैट्रिक टन चावल और 68.89 लाख मैट्रिक टन गेहूं का उत्पादन हुआ है। खरीफ और रबी सीजन में कुल 184.86 लाख मैट्रिक टन खाद्यान्न का उत्पादन हुआ है। लेकिन अभी जो आंकड़े सामने आए हैं उसके मुताबिक के बिहार  ने ग्रोथ दर्ज की हैं। 

इस तरह से बढ़ा उत्पादन
 बिहार में पिछले कुछ समय से खाद्यान्नों का उत्पादन बढ़ता जा रहा है। आंकड़ों को देखें तो वर्ष 2019-20 में उत्पादन 163.80 लाख मैट्रिक टन हुआ था। 2020-21 में यह बढ़कर 179.52 लाख मीट्रिक टन हो गया। साल 2021 - 2022 में 184.86 टन क उत्पादन बढ़ा हैं।  साल 2022 में ये उत्पादन काफ़ी तेजी से बढ़ा हैं। also read : 
क्या खेत को जल्दी खाली करने के लिए धान की पराली को जला देना सही है या गलत ?? जानिए इसके बारे में

इस साल हो सकता है 70 लाख मीट्रिक टन गेहूं
विशेषज्ञ, इस साल गेहूं उत्पादन बढ़ने की संभावना जताई जा रही है।  विशेषज्ञों का कहना है कि खरीफ सीजन के आखिर में तेज बारिश ने मौसम में बदलाव कर दिया है।  नमी अधिक होने से बुवाई आसान हुई है।  इस साल लगभग 70 लाख मीट्रिक टन गेहूं का उत्पादन होने का अनुमान है। वहीं, चावल का उत्पादन 2022-2023 में 60 से 62 लाख मीट्रिक टन होने की संभावना जताई जा रही है।