Coloured Rice Cultivation: रंगीन चावल की खेती से किसान बने लखपति ,मैजिक चावल में भी मोटी कमाई

 
pic

खेती किसानी में रोजाना नए -नए प्रयोग हो रहे है इसका मुनाफा किसानों को मिलता रहता है कुछ ऐसा ही चम्पारण के रामनगर प्रखंड के सोहसा पंचायत में देखने को मिल रहा है यहां के रहने वाली विजयगिरि लाल हरे काले रंग के साथ -साथ मैजिक चावल की खेती करते है इन चावलों की खास बात यह है की जैसे किसी ने इन पर रंग डाल दिया हो 

pic
मिनरल्स और विटामिन्स से भरपूर इन चावलों का सेवन डायबिटीज से पीड़ित इंसानों के लिए बहुत लाभकारी माना जाता है इस फैक्ट को कृषि अनुसंधान केंद्र द्वारा भी प्रमाणित किया जा चूका है 
किसान विजयगिरि ने पारंपरिक खेती से अलग हट कर प्रयोग के रूप में लाल हरे काले चावल की खेती की शुरुआत की थी इनकी खेती वह जैविक तरिके से करते है उनका दावा है की ऑर्गेनिक खेती से प्रकृति संरक्षण के साथ -साथ खेती की लागत में भी कमी आई है रंगीन चावल की खेती से उन्हें अच्छी उपज भी प्राप्त हो रही है इससे बाह शानदार फायदा कमा रहे है 

pic
विजयगिरि बताते है की वह मैजिक चावल की भी खेती करते है ये चावल ठंडे पानी में भी पक जाते है इस चावल की प्रजाति के खेती से भी वह मोटी कमाई हासिल कर सकते है वह आगे बताते हजे की उनके साथ पुरे देश में 30 से 40 हजार किसान जुड़े हुए है जिनको वह हर साल लाल हरे काले और मैजिक चावल के बीज उपलब्ध कराते है साथ ही इनकी खेती के करने के लिए कौनसी सावधानियां बरतनी चाहिए यह भी बताते है 
रामनगर प्रखंड के कृषि पदाधिकारी प्रदीप कुमार बताते है की किसान विजयगिरि इन चावलों का उत्पादन ऐसे क्षेत्र में करते जो काफी पिछड़ा हुआ है इसके साथ ही इन चावलों की बिक्री वह अच्छे कीमतों पर करते है कृषि अधिकारी ने बताया की किसान विजयगिरि को इस तरह के योगदान के लिए जिला और राज्य स्तर पर सम्मानित भी किया जा चूका है