अगस्त महीने में करें इन सब्जियों की खेती ,होगा शानदार मुनाफा

 
PIC

किसानों के लिए बारिश का मौसम बहुत लाभकारी होता है इस मौसम में फसलों को पर्याप्त मात्रा में पानी मिलता है और साथ ही फसलों के उत्पादन और रोपाई का उपयुक्त समय रहता है कई फसलों के लिए ज्यादा पानी नुकसान दायक होता है जबकि कुछ फसलों के लिए बरसात का पानी लाभकारी होता है बरसात का मौसम कई किस्म की सब्जियों की बुवाई का सबसे उपयुक्त समय होता है इस सीजन में खेत में सिंचाई की जरूरत नहीं होती है और जमीन में नमी अच्छी होने से सब्जियों की पौध भी बढ़िया तरह से हो जाती है और साथ ही फसल जल्द ही अंकुरित हो जाती है 

PIC
गाजर की ऐसे करें बुवाई 
गाजर की खेती के लिए जमीन को अच्छी तरह से समतल कर लें इसके लिए 2 से 3 फ़ीट गहरी जुताई करनी चाहिए और हर जुताई के बाद पाटा लगाना चाहिए ताकि डगल फुट जाए इसके बाद खेत में गोबर की खाद मिला दें इसकी उन्नत किस्मों में पूसा केसर घाली नेट्स आदि है यह जड़ वाली फसल है किसान अगस्त के शुरूआती दिनों में गाजर की खेती कर सकते है 
शलजम की खेती 
बरसात के मौसम में शलजम की खेती की जाती है किसान अगस्त में इसकी बुवाई कर सकते है शलजम की खेती के लिए मिटटी बुलई और रेतीली होनी चाहिए खेत की तैयारी करने के लिए 3 से 4 गहरी जोत लगाए यह फसल किसानों को अच्छी कमाई दे सकती है शलजम में विटामिन c विटामिन K फोलिएट जैसे पोषक तत्व पाए जाते हे 

PIC
फूलगोभी की खेती 
फूलगोभी सब्जी वाली इस ऐसी फसल है जो सालभर चलती है लेकिन सर्दी के दिनों में अगस्त में फूलगोभी की रोपाई की जाती हे यह ठंडी जलवायु पौधा हे खेत में कम से कम दो बार जुताई कर पाटा लगाएं इसमें गोबर की सड़ी हुई खाद मिला दें पौधे लगाते समय दुरी 40 से 50 सेंटीमीटर होनी चाहिए फूलगोभी के लिए बलुई दोमट मिटटी सही होती है

PIC
पालक की खेती 
पालक का इस्तेमाल सब्जी और ज्यूस के रूप में किया जाता है पालक की खेती वर्षा के दिनों में करने से इसकी बढ़वार जल्दी होती है पालक जैविक पदार्थों से भरपूर मिटटी में ज्यादा विकसित तरिके से होता है इसके बीज आधे से 1 इंच की गहराई में बोन चाहिए पौधा से पौधा की दुरी 20 से 30 सेमि होनी चाहिए रेतीली दोमट मिटटी पालक की खेती के लिए उपयुक्त होता है 

PIC
धनिया की खेती 
धनिया एक मसाला वाली फसल है इसकी पत्तियों के अलावा बीज भी मसाले का काम करते है हरी पत्तियों से हर तरह की सब्जी जयेकेदार हो जाती है इसमें दोहरा लाभ किसान ले सकते है पहले धनिया की पत्तियों को काटकर बेचा जा सकता है इसके बाज बीजों को पकने के बाद उनको बेचा जा सकता है