तुलसी की खेती करने पर किसानों को मिलेगा 13180 रूपये प्रति हेक्टेयर का अनुदान ,जानिए पूरी डिटेल्स

 
PIC

हिन्दू धर्म में तुलसी का पौधा काफी पवित्र माना जाता है इसकी पूजा की जाती है तुलसी का धार्मिक महत्व तो होता ही है साथ ही इसका औषधीय महत्व भी होता है तुलसी के पत्तों जड़ों बीजों को आयुर्वेद में दवा बनाने के लिए काम में लिया जाता है तुलसी के बीजों का तेल भी निकला जाता है इसे इम्युनिटी बस्टर के लिए भी काम में लिया जाता है कई किसान तुलसी की खेती कर अच्छा -खासा मुनाफा कमा रहे है 

PIC
UP में तुलसी की खेती करने के लिए किसानों को सरकार की तरफ से 13820 रूपये प्रति हेक्टेयर का अनुदान दिया जाता है ये सहायता औषधीय फसलों की खेती पर दिए जाने वाले अनुदान स्किम के अंतर्गत दिया जाता है 
औषधीय फसलों की खेती के लिए सरकार की तरफ से किसानों को अनुदान दिया जाता है UP में तुलसी की खेती करने वाले किसानों को 30 % सब्सिडी का लाभ प्रदान किया जाता है इन दोनों की खेती पर अधिकतम 2 हेक्टेयर पर सब्सिडी मिलती है तुलसी की 1 हेक्टेयर में खेती करने के लिए 43923 रूपये की लागत निर्धारित की गई है जिसमें से सरकार 13180 रुपए सब्सिडी सरकार की तरफ से दी जाती है 
UP में हरदोई जिले के नीर गांव के किसान अभिमन्यु तुलसी की खेती  कर रहे है इससे उनका अच्छा मुनाफा मिल रहा है उन्होंने करीब 1 हैक्टेयर में तुलसी के पौधे लगा रखें है तुलसी की सुखी पत्तियों और बीजों से कमाई की जाती है तुलसी के बीजों से तेल निकला जाता है जिसकी कीमत मार्केट में  2 हजार रूपये लीटर हो सकती है 
तुलसी की खेती बलुई दोमट जमीन में की जा सकती है तुलसी की फसल के लिए खेत में पानी भरा  नहीं होना चाहिए अगर ऐसा है तो   ये हानिकारक होता है इससे तुलसी का पौधा ज्यादा पानी के कारण गलने लगता है इसकी खेती करने से पहले पानी निकलने का उचित प्रबंध करना चाहिए 

PIC
तुलसी की कई प्रजातियां पाई जाती है इसमें सबसे बेहतरीन प्रजाति  ओसिमम बेसिलिकम मानी जाती है यह प्रजाति सबसे ज्यादा तेल उत्पादन के लिए उगाई जाती है इसका इस्तेमाल परफ्यूम और ओषधियों को बनाने में किया जाता है तुलसी का पौधा बारिश के दिनों में उगाया जाता है बीज या पौधे का रोपण करते समय उचित दुरी रखनी चाहिए तुलसी के एक हैक्टेयर जमीन ने 100 ग्राम तेल निकलता है