Gardening Tips : जमीन नहीं है तो कम जगह में इस तरह उगाए तजा सब्जियां, कम स्पेस में भरपूर मिलेगा प्रोडक्शन

 
zxzx

कोरोना महामारी के आने के बाद में अब देश में ज्यादातर अर्बन फार्मिंग होने लगी है। पहले गार्डनिंग सिर्फ फुलवारी तक ही सिमित थी। लेकिन अब तो फलो और सब्जियों के पौधे भी गमले में लगाए जा रहे है। कुछ लोगो के घर में स्पेस की कमी होने की वजह से गमले काफी जगह घेरते है। ऐसे में आप प्लास्टिक की बेकार पड़ी बोतलों का इस्तेमाल कर सकते है। इन दिनों गाजर, मेथी, धनिया, पालक, हरी प्याज, बथुआ और मिर्च का सीजन चल रहा है। आप इन सब सब्जियों को के साथ में कुछ फूलदार पौधे भी लगा सकते है। 

बीजो को संभलकर रखे 
हर किचन में सब्जियों को काटते समय ही बीजो को खचरे के डिब्बे में डालने के बजाय आप इन्हें संभालकर रख लेवे। इन बीजों को लगाकर आप घर पर सब्जियां लगा सकते है। इन बीजों को एक पैकेट में डालकर इकट्ठा कर लेवे और जब प्लास्टिक की बोतल से  प्लाटर्स बनाएं तो इन बीजों को धोकर मिट्टी में लगा सकते हैं। 

बना सकते है स्प्रे बोतल 
कई बार आप प्लांट में जरुरत से ज्यादा पानी दाल देते है। जिससे पौधे गलने लगते है। इसके लिए आप स्प्रे बोतल का इस्तेमाल कर सकते है। स्प्रे बोतल में पानी के अलावा किटन वेस्ट से बने फर्टिलाइजर या नीम ऑइल का भी स्प्रे का भी इस्तेमाल कर सकते है। इसे बनानां काफी आसान होता है। बोतल के ढक्क्न के हॉल में स्प्रे पंप एड किया जा सकता है। शाम में समय पौधों में पानी स्प्रे करने से प्लांट की अच्छी ग्रोथ हो जाती है। 

कैसे बनाए प्लांट मिक्स
प्लास्टिक की बोतल से प्लांटर्स और स्प्रे बोतल बनाने के बाद प्लांट मिक्स बनाए। यदि मिट्टी का इस्तेमाल नहीं करना चाहते तो वर्मीकंपोस्ट या कोकोपीट का इस्तेमाल कर सकते हैं। प्लांट की अच्छी ग्रोथ के लिए गोबर की खाद और बाग की मिट्टी भी डाल सकते हैं। इसे प्लास्टिक की बोतल से बने प्लांटर्स में भर दें और हल्का पानी स्प्रे करके दो दिन के लिए छोड़ दें। अब इसमें किसी भी सब्जी के बीज या पौधे लगा सकते हैं। 

पॉल्यूशन से मिलेगा छुटकारा 
इन दिनों प्लास्टिक का पॉल्यूशन काफी ज्यादा बढ़ गया है। घरो में प्लास्टिक की बोतले आती है लोग उन्हें कचरे में फेक देते है। इस वेस्ट से निपटने के लिए Reduce-Reuse-Recycle का फॉर्मूला अपनाया जा रहा है। आप भी इस मॉडल पर काम करते हुए अपने घर में प्लास्टिक बोतले से हैंगिंग गार्डन या वर्टिकल गार्डन बना सकते हैं। यह प्लांट जल्द खराब नहीं होते है और काफी लम्बे समय टाइम तक इनमें वेजिटेबल और फ्लावर प्लांट्स लगाए जा सकते हैं। also read : 
Brinjal Farming : वैज्ञानिकों ने खोजी बैंगन नई प्रजाति, बिना किसी नुकसान के साथ हर एक बीज देता है अच्छी उपज