अगर आप भी जैविक खेती को बचाने चाहते है तो,ऐसे करे मधुमक्खी पालन,शहद की कीमत जान रह जाएगे हैरान

 
g

भारत एक कृषि प्रधान देश है यहाँ अधिकतर लोग किसान परिवार से होने के बाद भी अपने पारिवारिक पेशे से दूर रहते है नौकरी करने के लिए निकल जाते है अक्सर लोगो को नौकरी करने का जरुरी उद्देश्य आमदनी और अच्छा जीवन होता है लेकिन लोगो के जीवन में कुछ ऐसा समय आता है जब नौकरी एक अच्छे जीवन के बाधा बन जाती है

h

आपको बात दे कुछ लोग किसान परिवार से थे उनकी पुश्तैनी जमीन पर भी रासायनिक उर्वरको और कीटनाशकों की मदद से खेती लंबे समय से हो रही थी जिसके कारन जमीन की पैदावार घट गयी है और खराब होने लगी ऐसे में उन्होंने फैसला लिया के अब वे अपने परिवार के साथ रहकर जैविक खेती करेंगे जमींन के हिस्से पर जैविक खेती शुरू की इससे उनका कई लाभ हुआ 

h

फसल की सुरक्षा के लिए किया मधुमक्खी पालन - आपको बात दे जैविक खेती को तो उनकी फसलों में कीड़े लग गए उन्होंने रासायनिक कीटनाशक का इस्तेमाल करना बंद किया। उनको जानकारी मिली की जहा मधुमक्खी रहती है वह फसलों में कीड़े कम लगते है इसके बाद उन्होंने मधुमक्खी पालने का फैसला किया उन्होंने लाखो रूपये की मधुमक्खी के 100 बक्से खेतो में रखे इससे काफी लाभ हुए इससे खेती में कीड़े कम लगे और को उनको शहद भी मिला और शहद को बाजार में बेचा। 

 g

आपको बात दे की जैविक खेती के लिए मधुमक्खी को पलना था इससे 12 लाख का फायदा हुआ इससे अब मधुमक्खी पालन को बढ़ाने का फैसला किया अब 15 तब शहद मिलने जा रहा है इससे 60 लाख रूपये की आय हो रही है और जैविक खेती की फसल अच्छी हो रही है और फसलों में कीड़े कम लगते है।