यूपी में आलू को झुलसा रोग से बचाने के लिए छिड़की जा रही है देशी शराब, किसानों का दावा मोटा होगा आलू

 
xcvxcv

भारत में इन दिनों कड़ाके की ठण्ड पड़ रही है। सर्दी के कारण हाथ पैरों में गलन बढ़ने लगी हैं। खेतों में खड़ी फसलों पर भी पहले का प्रकोप में नजर आ रहा है। कई राज्यों में तापमान जीरो डिग्री सेल्सियस से भी नीचे चला गया है। तो कहीं पर तापमान 2 से 5 डिग्री तक बना हुआ है। ऐसे में पाले से बचाव के लिए किसान तमाम तरह के उपाय कर रहे हैं। लेकिन उत्तर प्रदेश के इटावा से आलू की फसल को बचाने का एक अनोखा तरीका सामने आ रहा है। यहां के किसानों ने आलू को पाले से बचाने के लिए उन पर देसी शराब का छिड़काव करना शुरू कर दिया है। 

झुलसा रोग से बचाव का उपाय
उत्तर प्रदेश के इटावा में किसानों ने आलू को झुलसा रोग से बचाने के लिए देसी शराब का छिड़काव करना शुरू कर दिया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक किसान आलू की फसल को झुलसा रोग से बचाने और अपने उत्पादन में बढ़ोतरी करने के लिए देसी शराब का इस्तेमाल कर रहे हैं। किसान पानी में शराब को मिलाकर खेतो में खड़ी फसल पर छिड़काव कर रही हैं। 

किसानों का दावा मोटा होगा आलू
देसी शराब का छिड़काव करने वाले किसानों का दावा है कि देसी शराब का छिड़काव करने से फसल को बचाने के लिए ही कर रहे हैं। उनका कहना है कि देशी शराब के छिड़काव से आलू झुलसा रोग की चपेट में नहीं आएगा। इसके साथ ही वह कहते हैं कि इससे आलू का आकार बढ़ेगा और उत्पादन में भी बढ़ोतरी होगी। इसे किसानों की आमदनी में इजाफा होगा। 

कृषि अधिकारियों नहीं शराब नहीं छिड़कने की की अपील
स्थानीय कृषि विभाग के अधिकारियों का कहना है कि किसान फसलों अंग्रेजी शराब का छिड़काव ना करें। इसके फसल को नुकसान पहुंचता है। इससे आलू का उत्पादन प्रभावित होगा साथ ही खाना भी नुकसानदायक होगा आलू का झुलसा रोग से बचाने के लिए किसान अन्य इंतजाम कर सकते हैं। वह डाइथिंग M45 का घोल बनाकर फसलों पर छिड़क सकते हैं। also read : 
किसान अपने खेत में गलती से भी ना लगाए ये वाला पेड़,फायदे के चक्कर में जमीन हो जाएगी बंजर