सर्दियों के मौसम में बदल जाती है पेड़-पौधों में खाद देने की प्रोसेस, जानिए कौनसी खाद होती है सबसे उपयुक्त

 
vghgh

मौसम के अनुसार पौधों की देखभाल करना बेहद जरुरी है। इन दिनों भारत में में सर्दियों का मौसम चल रहा है इस दौरान बगिया खिली हुई है। यहाँ फूल खले रहे इसके लिए आपको समय पर खाद डालना बेहद जरुरी है। पेड़-पौधों के मौसम के अनुसार उगाया जाता है। गर्मियों के मौसम में पेड़-पौधों पर गर्मी की मार पड़ने के कारण मुरझा जाते है। और सर्दियों के मौसम में उगाये जाने वाले फल और सब्जिया आपके बगीचे को भरा भरा रखते है। इसके बावजूद भी इस मौसम में पौधों का विशेष तौर पर ध्यान रखना बेहद जरुरी है। आइए जानते है सर्दियों के मौसम में पेड़ पौधों की देखभाल के लिए क्या करना चाहिए। 

कौनसी खाद है सबसे उपयुक्त 
सर्दियों के मौसम में पौधों के लिए सबसे उपयुक्त खाद गोबर की होती है। इसके अलावा आप वर्मीकंपोस्ट या रसोई के कचरे से बनी खाद का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। सर्दियों में गोबर की खाद को इसलिए सबसे अच्छा माना जाता है। क्योंकि इसमें ऊष्मा ज्यादा होती है इसलिए जाड़े में यह पौधों की जड़ों में अवशोषित हो जाती है। पौधा कम तापमान में भी अच्छी तरह से बढ़ लेता है। पौधे में गोबर की खाद डालने से पहले इस बात का अवश्य ध्यान रखे। खाद पुरानी नहीं होनी चाहिए जो पूरी तरह से सुख कर तैयार हो चुकी हो। गोबर की खाद में नाइट्रोजन, फास्फोरस, पोटाश, जैसे पोषक तत्व होते हैं। इसके अलावा कैल्शियम, मैग्नीशियम, गंधक, आयरन, कॉपर में जस्ता की मात्रा होती है। यह सभी तत्व मिट्टी की गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए उपयुक्त होते हैं और पौधे के विकास में भी लाभदायक होते हैं। गोबर की खाद से मिट्टी में ऐसे जीवाणु की संख्या बढ़ती है। जो मिट्टी की गुणवत्ता बढ़ाने में सहायक होते हैं। गमले की मिट्टी में गोबर की खाद मिलाने से मिट्टी में हवा और ऊष्मा का संचार अच्छी तरह से होता है। यानी जब आप पौधे को पानी देते हैं तो वह पौधे की जड़ों तक आसानी से पहुंच जाता है। 

वर्मीकम्पोस्ट को भी माना जाता है अच्छा
गोबर की खाद के अलावा आप सर्दियों में वर्मीकंपोस्ट का भी यूज कर सकते हैं। साथ ही अगर किचन वेस्ट से बने खाद्य पदार्थ करते हैं तो वह भी काफी अच्छी होती है। गोबर की खाद के अलावा सरसों की खली भी पौधों में डाली जा सकती है। पॉटिंग मिक्स में तैयार कर रहे हैं तो उस समय एकदम लेकर एक मुट्ठी सरसों की खली डाल।  सरसों की खली का लिक्विड फर्टिलाइजर बनाने में भी डाल सकते हैं। इसके लिए एक बाल्टी मे 2 लीटर पानी लेवे और उसमें 100 ग्राम या दो से तीन मुट्ठी सरसों की खली डाले। इसके लिए आप 2 लीटर वाली कोल्ड ड्रिंक की बोतल का भी यूज कर सकते हैं। बाल्टी या बोतल जिसमें फर्टिलाइजर बना रहे हैं। उसे टक्कर के दो-तीन दिन बाद में खाली पानी के साथ अच्छी तरह भूल जाएगी। अब इस लिक्विड फर्टिलाइजर 100 ग्राम या 2-3 मुट्‌ठी सरसों की खली डाल दें। इसके लिए आप दो लीटर वाली कोल्ड ड्रिंक की बोतल भी यूज़ कर सकते हैं। बाल्टी या बोतल जिसमें भी फर्टीलाइज़र बना रहे हैं उसे ढककर रख दें। 2-3 दिन में खली पानी के साथ अच्छी तरह घुल जाएगी। अब इस लिक्विड फर्टीलाइज़र में 20 लीटर पानी मिला दें और अपने सभी पौधों में इस पानी को दें। also read : 
गाय,भैस के सींग कटवाने क्यों है जरुरी ?अगर नहीं कटवाए तो क्या होगा ??