फेफड़ों में जमा कफ बाहर निकालने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय

 
lungs

अगर बात करें अस्थमा के लक्षणों की तो मरीज को सांस की कमी सीने के जकड़न या दर्द सांस छोड़ते समय घरघराहट सांस लेने में परेशानी आदि शामिल है अस्थमा के लक्षण इंसान के आधार पर अलग -अलग होते है 
अस्थमा को संतुलित कफ ,वाट और पित दोष के लिए जिम्मेदार ठहराया है जिससे खांसी शुष्क स्किन चिड़चिड़ापन बुखार ,चिंता और कब्ज होता है अस्थमा के लिए आयुर्वेदिक उपचार भी बेहतर ऑप्शन है रोजाना इस्तेमाल की जाने वाली कुछ चीजों के जरिए अस्थमा के मरीजों को लक्ष्यों को काबू में रखने में सहायता मिल सकती है आज हम आपको अस्थमा को ठीक करने के कई उपाय बताएंगे 

harbal tea


हर्बल टी 


अस्थमा के मरीज अपने लक्षणों को कम करने के लिए रोजाना विभिन्न जड़ी बूटियों से बनी हर्बल चाय पी सकते है डॉक्टर चावला के अनुसार अजवायन तुलसी ,काली मिर्च और अदरक के मिश्रण से बनी हर्बल चाय अस्थमा के रोगियों के लिए बेहतर ऑप्शन है

honey 


शहद और प्याज 


अस्थमा के दौरे के दौरान भीड़ को कम करने और सांस की परेशानी को कम करने के लिए एक गिलास में थोड़ी सी काली मिर्च लगभग 1 चम्मच शहद और प्याज का थोड़ा सा रस मिलाएं और इसे धीरे -धीरे पिएँ इस आप थोड़ा रिलेक्स महसूस करेंगे 


​सरसों तेल की मसाज


रोगी की छाती पर भूरे रंग के सरसों के तेल की मालिश करने से आराम मिल सकता है मालिश करने से फेफड़ों को गर्माहट मिलती है जिससे छाती में जमा कफ दूर होता है और सांस लेना आसान बनता है 

haldi


हल्दी 


करक्यूमिन हल्दी में पाया जाने वाला सबसे शक्तिशाली तत्व है और इसकी वजह से हल्दी का रंग पीला होता है हल्दी में कुछ औषधीय और एंटीऑक्सीडेंट घटक शामिल है जिनमें से सूजन को रोकने की क्षमता है यह अस्थमा के लिए असरदार है इसके लिए आप हल्दी की चाय बनाकर भी पी सकते है