जानिए,कैंसर के शुरूआती लक्षण,इसके कारण

 
g

असामान्य के विस्तार के कारण होने वाली अलग अलग बीमारियों में से कोई भी जो तेजी से विभाजित होती है और अच्छे शारीरिक ऊतकों पर आक्रमण करने और खत्म करने की क्षमता रखती है ,उन्हें कैंसर कहते है।पुरे शहर में कैंसर फैलने की पर्वती आम है। दुनिया भर में मोत का दूसरा आक्रमण सबसे बड़ा कारण कैंसर है।कैंसर का पता लगने ,पुकार और रोकथाम में प्रगति के कारण ,कई तरह के कैंसर के लिए जीवित रहने की दर बढ़ रही है।

g

शरीर के किस एरिया के आधार पर,कैंसर कई तरह के लक्षण पैदा करता है।कैंसर के कुछ संकेत और लक्षण है जो बीमारी के लिए विशिष्ट नहीं है।थकान,गांठ होने का क्षेत्र जिसे त्वचा के निचे महसूस किया जा सकता है ,वजन बढ़ना या कम होना,जिसमे अनपेक्षित हानि या लाभ शामिल है। त्वचा का पीला पड़ना,काला पड़ना या लाल होना।घाव जो ठीक नहीं होते,या मौजूद मस्सो में बदल जाते है।लगातार खांसी या साँस लेने में समस्या आदि है। 

h

वही इसके कारण की बात करे तो कोशिकाओं के भीतर डीएनए में उत्परिवर्तन हो कैंसर बनते है।गलत निर्देशक एक कोशिका को सामान्य रूप से काम करना बंद कर सकते है और इसे कैंसर विकसित करने का मौका दे सकते है। एक जिन उत्परिवर्तन एक कोशिका को ज्यादा तेजी से विभजित और विकसित करने का निर्देश दे सकता है। इसके परिणामस्वरूप एक ही उत्परिवर्तन के साथ कई अतिरिक्त कोशिकाओं का निर्माण होता है।जन्म के बाद होने वाले जिन परिवर्तन।ज्यादा जिन उत्परिवर्तन जन्म के बाद होते है और विरासत में नहीं मिलते है।धूमप्रान,विविकरण,वायरस कैंसर पैदा करने वाले पदार्थ,मोटापा,हार्मोन ,पुरानी सूजन जिन उत्परिवर्तन लाया जा सकता है। आदतों की बात करे तो,तंबाकू,ज्यादा शराब,ज्यादा धुप में रहना,मोटा होना आदि कैंसर के जोखिम कारक है। खराब नीद अक्सर कैंसर के इलाज के तनाव और प्रतिकूल प्रभावों का परिणाम होती है। जैसे दिन में ज्यादा झपकी ,सोने या सोते रहने में समस्या ,जल्दी जागना आदि है।