CM Mamata banerjee : चाय की दुकान पर पकोड़े बेचती नजर आयी CM ममता बनर्जी,बिरसा मुंडा के जन्मिदन पर ढोल भी बजाय,देखे वीडियो

 
g

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी 20 मई 2011 से भारतीय राज्य पक्षिम बंगाल की आठवीं और वर्तमान मुख्यमंत्री के रूप में सेवा कर रही है पद संभालने वाली पहली महिला है। पक्षिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का एक वीडियो सोशल मिडिया पर वायरल  हो रहा है ,जिसमे वह सड़क किनारे एक चाय की दुकान पर पकोड़े बाटंती दिखाई दे रही है।यह वीडियो आदिवासी बहुल झारग्राम इलाके का बताया जा रहा है। झारग्राम में बनर्जी ने भगवान बिरसा मुंडा को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि दी। इस दौरान सीएम ने ढोल भी बजाया। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आदिवासी स्वतंत्रता सेनामि बिरसा मुंडा की जयंती के लिए झारग्राम जिले के दौरे पर थी है। 

h

ऐसे में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपने काफिले को सड़क किनारे एक चाय की दुकान पर रोक दिया और लोगो को पकोड़े परोसना शुरू कर दिया। इस वीडियो में देखा जा सकता है की ममता अचानक रूकती है और ठेले पर खड़े होकर एक एक पकोड़ा अपने हाथ से पैक करती है और बाटने लगती है।  

बिरसा मुंडा की बात करे तो बिरसा मुंडा का नारा ,'रानी का राज्य समाप्त हो और हमारा राज्य स्थापित हो ' ने ब्रिटिश राज को सबसे पहले धमकी दी थी।उन्होंने आदिवासियों पर तत्कालीन ब्रिटिश सरकार के अत्याचारों के खिलाफ आंदोलन का नेतृत्व किया था।बिरसा मुंडा का जन्म 15 नवंबर ,1875 को हुआ ये एक आदिवासी स्वतंत्रता सेनानी थे ,जिन्होंने तक्कालीन बंगाल प्रेसिडेंसी में अंग्रेजो के खिलाफ आंदोलन का नेतृत्व किया था। गिरफ्तारी के बाद 9 जून 1900 को जेल में उनकी मृत्यु हो गयी। 

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार के खिलाफ तीखा हमला करते हुए मंगलवार को कहा की अगर केंद्र ने राज्य का बकाया नहीं चुकाया तो उसे पक्षिम बंगाल वस्तु एव सेवा कर का भुगतान रोका पड़ सकता है।आदिवासी बहुल झारग्राम जिले में एक रैली को संबोधित करते हुए बनर्जी ने कहा की केंद्र को या तो राज्यों का बकाया चुकाना चाहिए या सत्ता छोड़ देनी चाहिए। 


मुख्यमंत्री ने केंद्र पर मनरेगा की राशि जारी नहीं करने का आरोप लगाते हुए आदिवासियों से इसका विरोध करने के लिए सड़को पर उतरने का आहन किया। उन्होंने कहा की अपने वित्तीय बकाया के भुगतान के लिए क्या हमे केंद्र के समाने भीख मांगनी पड़ेगी। वे मनरेगा का कोष जारी नहीं कर रहे है।अगर भाजपा सरकार हमारे बकाया का भुगतान नहीं करती तो उसे सत्ता छोड़नी होगी। आपको बात दे कई बार केंद्रीय केबिनेट मंत्री के रूप में काम करने के बाद ,ममता बनर्जी 2011 में पहली बार पक्षिम बंगाल की मुख्यमंत्री बनी है।