हफ्ते में दो दिन पढ़कर क्रेक की UPSC परीक्षा,किसी मॉडल से कम नहीं है ये यह लेडी ऑफिसर

 
g

ये तो सभी को पता है यूपीएससी का एग्जाम पास करना कोई सरल काम नहीं है।यूपीएससी को पास करना लोहे के चने चबाने जैसा है। वही काफी स्टूडेंट्स ने अपनी मेहनत और सही पढाई करते हुए इस बात को गलत साबित किया है।इसी कड़ी में हरियाणा की रहने वाली देवयानी सिंह की कहानी भी बेहद अलग है। 

g

आपको बात दे देवयानी केवल वीकेंड यानि शनिवार और रविवार को ही यूपीएससी की परीक्षा के लिए तैयारी करती थी। इसके बावजूद उन्होंने साल 2019 में ऑल इंडिया में 11 वि रेंक प्राप्त कर एग्जाम पास किया। यूपीएससी जैसी कठिन परीक्षा को मात्र 2 दिन पढाई करके पास करने वाली देवयानी ने एक मिसाल कायम की है।देवयानी ने अपनी कक्षा 10 वि और 12 की पढाई चंडीगढ़ के स्कुल से की है।  

कक्षा 12 वी की पढाई पूरी करने के बाद देवयानी ने साल 2014 में बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस ,पिलानी के गोवा केम्पस के इलेक्ट्रॉनिक्स और इंस्टूमेंटेशन इंजीनियरिंग कोर्स में एडिशनल लिया। यहाँ से उन्होंने अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री पूरी की।इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त करने के बाद देवयानी ने यूपीएससी की एग्जाम देने का मन बनाया,जिसके लिए उन्होंने तुरंत तैयारी शुरू कर दी।लेकिन देवयानी को इतनी आसानी से सफलता हासिल नहीं हुई।

g

 उन्होंने लगातर तीन बार 2015 ,2016 और 2017 में यूपीएससी परीक्षा में फेल होने के बाद चौथे प्रयास में जाकर उन्होंने सफलता प्राप्त की। यानी देवयानी शुरूआती दो प्रयासों में यूपीएससी प्रीलिम्स भी किलियर नहीं कर पायी थी।जबकि तीसरी में वो इंटरवयू राउंड तक तो पहुंच गयी। लेकिन फ़ाइनल लिस्ट में उनका नाम यही आया। 

इसके बाद भी देवयानी ने हार नहीं मानी और साल 2018 में अपना चौथा अटेम्प्ट किया। इसके बाद उन्होंने यूपीएससी क्रेक कर डाली और ऑल इंडिया 222 वी रेंक प्राप्त की।देवयानी को उनकी रेंक के अनुसार,सेंट्रल ऑडिट विभाग में नियुक्त किया गया। इसके बाद उनकी ट्रेनिंग शुरी होगी। देवयानी अपनी रेंक से खुश नहीं थी,इसलिए उन्होंने के बार और यूपीएससी की परीक्षा देना का मन बनाया।लेकिन वह ट्रेनिंग  के कारण एग्जाम की तैयारी के लिए अपना ज्याद वक्त नहीं दे पाती थी। ऐसे में वह केवल शनिवार और रविवार को ही एग्जाम के लिए पढ़ पाती थी। हफ्ते में दो दिन पढाई करके देवयानी ने साल 2019 में परीक्षा पास कर ऑल इंडिया में 11 वी रेंक प्राप्त की।