अगर बाबा के पास में है चमत्कारी शक्तियां, तो करे प्रमाणित , कांग्रेस नेताओं धीरेंद्र शास्त्री को दी चुनौती

 
zcxz

बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री इन दिनों विवादों से घिरे हुए है। धीरेंद्र शास्त्री पर अंधविश्वास को फैलाने और बढ़ावा देने का आरोप लगा है। उनके खिलाफ पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज हुई है। वहीं अब मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के नेताओं ने धीरेंद्र शास्त्री को चुनौती दी है। मध्य प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष डॉ. गोविंद सिंह ने कहा कि धीरेंद्र शास्त्री को अपनी शक्तियों को प्रमाणित करना होगा। 

डॉ गोविन्द सिंह ने धरेंद्र शास्त्री पर निशाना साधते हुए कहा है कि जब बागेश्वर सरकार पर आरोप लगे तो वे अपना बिस्तर लेकर क्यों भागे, अगर उनके पास में चमत्कारी शकितयाँ है तो उन्हें प्रमाणित करके दिखाए।  "सनातन धर्म में विश्वास करते हैं, लेकिन पाखंड और ढोंग में उनका भरोसा नहीं है. देश में हिंदुओं की बड़ी तादाद है। वे भी पाखंड को ठीक नहीं मानते."। 

अगर सच तो दे जवाब 
इस बयान पर नेता प्रतिपक्षी ने जवाब देते हुए कहा है, "जब बाबा को नागपुर की अंधविश्वास उन्मूलन समिति ने शक्तियां प्रमाणित करने की चुनौती दी तो वे वहां से क्यों भाग गए ? अगर इसमें सच्चाई है तो जवाब दे। प्रामाणिकता के आधार पर जवाब दें. तांत्रिक जैसी प्रथा को प्रचारित कर रखा है, उसे प्रमाणित करें.। 

केबिनेट मंत्री ने बाबा को दी चुनौती 
नागपुर और मध्य्प्रदेश के बाद अब छत्तीसगढ़ में भी बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र शास्त्री को चुनौती मिल चुकी है। एक केबिनेट मंत्री ने कवासी लखमा का कहना है कि बाबा मेरे साथ बस्तर चलिए। कल कल-परसों में धर्मांतरण हो रहा है तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा और अगर नहीं हो रहा है तो वो पंडिताई छोड़ें। 

बाबा ने उठाया था धर्मांतरण का मुद्दा
धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने 18 जनवरी को रायपुर में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर धर्मांतरण को लेकर बयान दिया था। उन्होंने कहना है कि जहां-जहां धर्मांतरण हो रहा है वो वहां रामकथा सुनाने जा रहे हैं। शास्त्री ने दावा किया कि उन्होंने धर्मांतरण रोकने का संकल्प लिया है। also read : 
अब बदलेगा संसद भवन,अंदर से केसा दिखेगा नया संसद भवन,यहाँ देखे