तमिलनाडु का जल्लीकट्टू बना मौत का खेल, 14 साल के लड़के को बेल ने इस कदर रोंदा की हुई मौके पर मौत

 
xzx

तमिलनाडु में मनाए जाने वाले पर्व जल्लीकट्टू  के दौरान एक 14 साल के लड़के को बेल ने इस कदर रौंद डाला कि उसकी मौके पर हो मौत हो जाती है। ये कार्यक्रम तड़ागांव  गांव में आयोजित किया गया था। दरअसल, गोकुल नाम का लड़का अपने रिश्तेदारों के साथ में जल्लीकट्टू देखने के लिए यहाँ गया था। यहाँ पर एक बेल ने उसके पेट में वार कर दिया। जिसके बाद में वह बुरी तरह से घायल हो गया है। आनन-फैंन में गोकुल के परिजन धर्मपुरी सरकारी अस्तपाल ले गए। जहां पर डॉक्टरों ने उसे मर्त घोषित कर दिया। घटना कि जानकारी मिलने के बाद में यहाँ कि पुलिस ने मामले कि जाँच पड़ताल करनी शुरू कर दी है। 

इससे पहले जल्लीकट्टू कार्यक्रम में 23 लोग हुए थे घायल
इससे पहले भी तमिलनाडु में होने वाले इस कर्यक्रम के दौरान 23 सेब ज्यादा लोग घायल हुए थे। आपको बता दे, पोंगल के समय तमिलनाडु में मवेशियों की पूजा कि जाती है। इसमें जल्लिकट्टु के नाम से एक आयोजन किया जाता है। जल्लीकट्टू एक खतरनाक खेल होता है. इस खेल में भीड़ के बीच एक सांड को खोल दिया जाता है। जल्लिकट्टु के खेल में खिलाड़ियों को खुले बेल को कंट्रोल करने के लिए कहा जाता है। इस खेल में बैलो को काबू करने के लिए खिलाड़ी उतरते है और ये खेल को पोंगल के अवसर पर मनाया जाता है।  जल्लीकट्टू को एरु थझुवुथल और मनकुविरत्तु के नाम से भी जाना जाता है। 

विजेताओं को मिलता है ये
वहीं, इस खेल के विजेताओं को दोपहिया वाहन, कपड़े, गहने और पैसे दिए जाते हैं, और कई युवा पोंगल त्योहार के दौरान तमिलनाडु में विभिन्न स्थानों पर जल्लीकट्टू कार्यक्रमों में भाग लेते हैं। also read : 
अगर बाबा के पास में है चमत्कारी शक्तियां, तो करे प्रमाणित , कांग्रेस नेताओं धीरेंद्र शास्त्री को दी चुनौती