पता लगाया जा सकेगा फर्जी आधार कार्ड इस्तेमाल करने वाले का, सरकार ने किया नया एडवाइजरी जारी

 
.
सरकार ने फर्जी आधार कार्ड के इस्तेमाल पर रोक लगाने के लिए एडवाइजरी जारी की है। इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि आधार कार्ड एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है, इसलिए इस 12 अंकों की विशिष्ट पहचान संख्या को भौतिक और इलेक्ट्रॉनिक रूप में स्वीकार करने से पहले इसे सत्यापित किया जाना चाहिए। आधार जारी करने वाली संस्था UIDAI ने सभी विभागों को सर्कुलर जारी कर कहा है कि किसी भी व्यक्ति का आधार स्वीकार करने से पहले उसकी सत्यता की जांच कर लें।

यूआईडीएआई की ओर से कहा गया है कि व्यक्ति की सहमति से उसके आधार कार्ड के किसी भी रूप जैसे ई आधार, आधार पीवीसी कार्ड और एम आधार (mAadhaar) को चेक किया जा सकता है।इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय ने कहा कि ऐसा करने से आधार के दुरुपयोग पर रोक लगेगी। साथ ही आधार के गलत इस्तेमाल और धोखाधड़ी के मामलों में भी कमी आएगी।

.

आधार कार्ड का दुरुपयोग दंडनीय है

सरकार की ओर से जारी एडवाइजरी के मुताबिक आधार के वेरिफिकेशन पर फर्जी कार्ड का पता चल जाएगा। ऐसे में फर्जी आधार कार्ड का इस्तेमाल करने वाले व्यक्ति को अपराध की श्रेणी में रखा जाएगा और आधार अधिनियम की धारा 35 के तहत सजा का भागी होगा।

.

आधार कार्ड कैसे चेक करें वेरिफाई करें

कोई भी आधार कार्ड mAadhaar ऐप या आधार क्यूआर कोड स्कैनर का उपयोग करके अपने सभी रूपों जैसे- आधार कार्ड, ई-आधार, आधार पीवीसी कार्ड और एम-आधार पर उपलब्ध क्यूआर कोड का उपयोग करके किया जा सकता है। क्यूआर कोड स्कैनर एंड्रॉइड और आईओएस आधारित मोबाइल फोन के साथ-साथ विंडो एप्लिकेशन के लिए भी उपलब्ध है।

.

नागरिकों को दी सलाह

आधार कार्ड जारी करने वाली संस्था UIDAI ने कहा है कि अक्सर देखा जाता है कि लोग कहीं भी अपने आधार कार्ड का इस्तेमाल कर लेते हैं या उसकी सुरक्षा पर ध्यान नहीं देते हैं. ऐसे में लोगों को अपने आधार कार्ड का इस्तेमाल सही जगहों पर ही करना चाहिए। इसकी प्रतियों को इधर-उधर फेंकने के स्थान पर संभाल कर रखें। सोशल मीडिया या किसी अन्य व्यक्ति के साथ कभी भी आधार नंबर या कार्ड शेयर न करें।