जाने क्यों पहनते हैं ऑपरेशन थिएटर में डॉक्टर हरे रंग का कोट

 
.

हम सभी कभी न कभी अलग-अलग कारणों से अस्पताल जरूर गए होंगे। अस्पताल में हम सभी ने एक बात नोटिस की होगी कि डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ हमेशा सफेद कोट या कपड़ों में नजर आते हैं। लेकिन जब ये डॉक्टर और नर्स ऑपरेशन के लिए जाते हैं तो हरे या नीले रंग के कपड़े पहनते हैं। ऐसा क्यों होता है आइए समझते हैं।

.

सफेद कपड़े की जगह हरे रंग का कपड़ा पहन लिया

दरअसल, पहले डॉक्टर ऑपरेशन करते हुए भी सफेद कपड़ों में रहते थे। लेकिन 20वीं सदी की शुरुआत में एक जाने-माने डॉक्टर ने सफेद कपड़े की जगह हरे रंग का कपड़ा पहन लिया। उन्हें लगा कि ऐसा करने से ऑपरेशन करते समय डॉक्टरों और अन्य मेडिकल स्टाफ की आंखों को राहत मिलेगी। कुछ शोधकर्ताओं और विशेषज्ञों का मानना ​​है कि हरा रंग हमारे दिमाग को शांत रखता है।

.

क्यों होता है ऐसा?

कई बार डॉक्टरों को लंबे समय तक ऑपरेशन थियेटर में रहना पड़ता है। ऐसे में उन्हें बार-बार खून का लाल रंग देखना पड़ता है। लाल रंग को ज्यादा देर तक आंखों के सामने रखने से उनकी आंखों पर काफी जोर पड़ता है। ऐसे में हो सकता है कि डॉक्टर सर्जरी पर फोकस न कर पाएं। उनकी आंखों को लगातार लाल रंग न देखना पड़े, इसलिए ऑपरेशन थियेटर में डॉक्टर हरे रंग की ड्रेस पहनते हैं।दृष्टि विशेषज्ञों का मानना ​​है कि लगातार लाल रंग पर ध्यान देने के बाद अगर ऑपरेशन करने वाले सर्जन को सफेद रंग की सतह दिखाई दे तो उन्हें हरा रंग देखने का भ्रम हो जाएगा।

.

विजुअल इल्यूजन

वैज्ञानिक भाषा में इसे 'विजुअल इल्यूजन' कहते हैं। दरअसल, सफेद रोशनी में इंद्रधनुष के सभी रंग शामिल होते हैं, बैंगनी, बैंगनी, नीला, हरा, पीला, नारंगी, लाल। चूंकि लाल रंग का प्रभाव आंखों को सफेद सतह से भी हरे रंग को देखने का संकेत देता है, जब डॉक्टर रोगी के लाल अंगों को देखता है और फिर अपने सहयोगियों को देखता है जो पहले से ही हरे या नीले रंग का लिबास पहने हुए हैं, तो हरे रंग का भ्रम होगा उसमें। तुरंत भंग हो जाएगा और किसी भी तरह की कोई दृश्य गड़बड़ी नहीं होगी।