इस गांव में सांपो के साथ रहते हे लोग इनके खाने के साथ ही रहने के लिए करते हे खास इंतजाम जानिए क्या है असली वजह

 
PIC

इंडिया में सापों और हिन्दू देवताओं का पुराण संबंध है भगवान शिव अपने गले में हमेशा सांप को धारण करते है हर साल नाग पंचमी के दिन आशीर्वाद पाने के लिए लोग सापों की पूजा करते है और दूध चढ़ाते है एक तरफ लोग साँपों से डरते है तो दूसरी और उनकी पूजा करते है सांप से डरना की वाजिब है क्योकिं अगर किसी जहरीले सांप ने किसी को काट लिया तो उसका बचना मुश्किल है लेकिन इंडिया में एक ऐसा गांव है जहां के घरों में सांप परिवार के सदस्यों की तरह रहते है 

PIC
यह गांव महाराष्ट्र में पुणे से लगभग 200 किमी दूर शोलापुर जिले में स्थित है जिसका नाम शेतपाल है इस अनोखे गांव में लोग सांपो के साथ रहते है इसके साथ ही साँपों की पूजा भी करते है और अपने घर में भी उनके रहने के लिए जगह बनाते है इस गाँव में सांपो की आवाजाही पर रोक नहीं है इस गांव में कोबरा घूमते है पर कोई कुछ नहीं बोलता है 
इस गांव में जब लोग घर का निर्माण कराते है तो सांपो के लिए एक छोटी सी जगह बनवाते है इस जगह को देवस्थानम का नाम देते है इस जगह पर सांप आकर बैठते है इस गांव में आने वाले डरते है तो उनको सलाह दी जाती है की अपने साथ अंडा दूध और अच्छी किस्मत लेकर आएं 

PIC
आजतक इन सापों के काटने से किसी भी तरह की मौत की कोई खबर नहीं आई है बच्चे और बड़े सभी इन सांपो के साथ फैमेली मेंबर की तरह ही व्यवहार करते है यहां रहने वाले लोग भगवान शिव की पूजा करते है शेतपुर गांव का इलाका मैदानी है यहां का वातावरण सूखा है जो की सांपो के रहने के लिए अनुकूल है जिसके कारण यहां कई तरह के सांप पाए जाते है वहीं इनके द्वारा सांपो को नुकसान न पहुंचाने  के पीछे माना जा रहा है की यहां के लोग सांपो को लेकर जागरूक रहते है इसके साथ ही वो पहले ही इनके लिए उचित स्थान बना देते है जिसके कारण लोगों का सापों से कम ही सामना हो पाता है 

LIVE TV