दुनिया की आबादी हुई 800 करोड़, 1800 साल लगे इस आंकड़े तक पहुंचने में

 
.

दुनिया में 800 करोड़वें बच्चे ने जन्म ले लिया है। साइट https://www.worldometers.info/ के अनुसारbरियल टाइम में आबादी को ट्रैक करने वाले इस बच्चे का जन्म मंगलवार दोपहर करीब 1.30 बजे हुआ। इसके साथ ही दुनिया की आबादी भी बढ़कर 8 अरब (800 करोड़) हो गई है।

.

जनसंख्या पर संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में यह भी अनुमान लगाया गया था कि 15 नवंबर 2022 को दुनिया की आबादी 800 करोड़ होगी।

जनसंख्या वृद्धि के इस आंकड़े में खास बात यह है कि पिछले 24 सालों में ही दुनिया की आबादी में 200 करोड़ की बढ़ोतरी हुई है।1998 में दुनिया की आबादी 600 करोड़ थी, जो 2010 में बढ़कर 700 करोड़ हो गई। अगले 12 साल यानी 2022 में फिर से आबादी 100 करोड़ बढ़ी और 15 नवंबर 2022 को दुनिया में 800 करोड़वां बच्चा पैदा हुआ।

ईसा मसीह के जन्म के समय से ही दुनिया की आबादी पर डेटा उपलब्ध है। अर्थात दो हजार वर्ष से भी अधिक समय में हम जनसंख्या वृद्धि को देख सकते हैं।

.

100 करोड़ की आबादी तक पहुंचने में 1800 साल लग गए

इन आँकड़ों से स्पष्ट होता है कि ईसा के जन्म के समय विश्व की जनसंख्या 20 करोड़ के करीब थी। इसे 100 करोड़ तक पहुंचने में करीब 1800 साल लगे थे। उसके बाद दुनिया को 100 करोड़ से 200 करोड़ तक पहुंचने में सिर्फ 130 साल लगे।

जब स्वास्थ्य सेवाएं सुधरीं, 100 करोड़

14 साल में बढ़े लोग औद्योगिक क्रांति से स्वास्थ्य सेवाओं में तेजी से सुधार हुआ। नतीजतन, प्रसव के दौरान पैदा होने वाले बच्चों और मरने वाली महिलाओं की संख्या में कमी आई है। इसके साथ ही जनसंख्या में तेजी से वृद्धि हुई। अगले 30 वर्षों में विश्व की जनसंख्या 200 करोड़ से बढ़कर 300 करोड़ हो गई, जबकि केवल 14 वर्षों में जनसंख्या 300 करोड़ से बढ़कर 400 करोड़ हो गई।

.

अगले 18 वर्षों में पृथ्वी पर 850 करोड़ लोग होंगे।

अगर लेटेस्ट ट्रेंड देखें तो सिर्फ 12 साल में धरती पर मौजूद इंसानों की संख्या 700 करोड़ से बढ़कर 800 करोड़ हो गई है। यूएन के अनुमान के मुताबिक 2030 तक दुनिया की आबादी बढ़कर 850 करोड़ हो सकती है। हालांकि यूएन ने यह भी कहा है कि 1950 के बाद पहली बार 2020 में जनसंख्या वृद्धि की दर में एक फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है।

वर्तमान में 46 देशों की जनसंख्या सबसे तेजी से बढ़ रही है, जिनमें से 32 देश