ट्रेनों में जंजीर लगाने की है ठोस वजह, नहीं किया नियमों का पालन तो हो सकती है जेल

 
.

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि भारतीय रेलवे एक विशाल रेल नेटवर्क है। इससे रोजाना लाखों लोग सफर करते हैं। भारतीय रेलवे के कुछ नियम हैं जो यह सुनिश्चित करते हैं कि प्रत्येक यात्री को यात्रा का सर्वोत्तम अनुभव मिले और रेल नेटवर्क अच्छी तरह से काम करे।

.

भारतीय रेलवे के नियमों की जानकारी

अगर आप रेल यात्री हैं तो आपको भारतीय रेलवे के नियमों की जानकारी जरूर होनी चाहिए। इससे एक फायदा ये भी होगा कि अगर आप कभी अटक भी जाते हैं तो ये नियम जो आपको पता भी नहीं होगा वो आपके काम आ सकता है। इनमें चेन पुलिंग का मामला खास है।

.

जंजीर

अक्सर लोग मजाक में या फिर अपनी सुविधा के अनुसार किसी ऐसे स्टेशन की तरह जहां ट्रेन रुकती ही नहीं है, जंजीर खींच देते हैं।ऐसे में ट्रेनों की आवाजाही प्रभावित होती है। साथ ही इस तरह की कार्रवाई भी अपराध की श्रेणी में आती है। हालाँकि, यह भी देखा जाता है कि जब आप वास्तव में किसी आपात स्थिति में होते हैं, तब भी आप यह सोचकर जंजीर नहीं खींचते हैं कि आपको जेल हो सकती है। इसलिए आपको इसके बारे में पता होना चाहिए।

.

भारतीय रेलवे का चेन पुलिंग नियम

जब हम किसी को ट्रेन में जंजीर खींचते हुए देखते हैं, तो हम अक्सर प्रयोग करना चाहते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि बिना वजह ट्रेन की चेन खींचना और ट्रेन को रोकना कानूनन अपराध है। ट्रेन में अलार्म चेन सिस्टम इमरजेंसी के लिए है। ट्रेन में चेन पुलिंग की इजाजत तभी दी जाती है जब कोई साथी, बच्चा, बुजुर्ग या विकलांग व्यक्ति छूट जाए, ट्रेन में किसी तरह की दुर्घटना या अन्य आपात स्थिति आ जाए तो इस चेन को खींचा जा सकता है। चलती ट्रेन में जंजीर खींचने की कोई तो ठोस वजह रही होगी।