Dev uthani ekadashi 2022 : देवउठनी एकादशी आज,आज के दिन भूलकर भी नहीं करे ये काम,नाराज हो सकते है भगवान विष्णु

 
g

हर साल देवउठनी एकादशी बड़ी धूम धाम से मनायी जाती है।देवउठनी एकादशी या कार्तिक एकादशी को सबसे शुभ माना गया है। ये कार्तिक मास का शुक्ल पक्ष की एकादशी है। इस साल ये आज यान की 4 नवंबर शुक्रवार को है। इस दिन विशेष उपाय करने से सारि मनोकामनाएं पूर्ण होती है। इस दिन दान पुण्य का भी जरुरी महत्व होता है।ऐसे में ज्योतिष के अनुसार कुछ जरुरी बातो का ध्यान रखना चाहिए। तो चलिए जानते है देवउठनी एकादशी के दिन क्या करे और क्या नहीं करे। 

g

देवउठनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु निद्रा से जागते है और इसी के साथ सारे शुभ काम शुरू हो जाते है। ऐसे में कहा जाता है की इस दिन दोपहर में नहीं सोना चाहिए।धार्मिक ग्रथो के अनुसार इस दिन भगवान विष्णु की भक्ति में लीन रहना चाहिए।इसके अलावा इस दिन किसी भी मनुष्य को भूल से भी चावल नहीं खाना चाहिए।चावल से बनी चीज से भी दूर रहना चाहिए। 

ज्योतिष के अनुसार देवउठनी एकादशी के दिन सुबह उठकर स्न्नान करे,उसके बाद सूर्य देव को अर्ध्य देकर एकादशी व्रत का स्कल्प करे। जीवन में सुख समृद्धि के लिए भगवान विष्णु को दूध में केसर डालकर उनका अभिषेक करे और आखिरी में श्री हरी की आरती करे। ऐसा करने से भगवना विष्णु प्रस्सन होते है। इसके अलावा जीवन में सफलता पाने के लिए इस दिन भगवान विष्णु की विधि विधान से पूजा करे ,दान पुण्य करे। 

g
देवउठनी एकादशी के दिन लहसुन और प्याज के सेवन से भी बचना चाहिए।अगर आपने व्रत नहीं रखा है को कोशिश करे की सात्विक भोजन की करे। ज्योतिष के अनुसार इस दिन भगवान विष्णु को सफेद रंग का भोग लगाए। इस दिन खीर या सफेद मिठाई का भोग लगा सकते है। इस दिन ब्राहम्णो को दान दक्षिणा दे और उनका आशीर्वाद प्राप्त करे।