अगर आपकी रसोई में है पूजा का मंदिर ,तो जानिए वास्तु से जुडी कुछ खास बातें

 
pic

भगवान की पूजा के लिए अधिकांश घरों में पूजा मंदिर बनवाया जाता है मान्यता है की पूजा स्थान से पुरे घर में पॉजिटिव एनर्जी का संचार होता है इस इसलिए घर में रखने के लिए उस स्थान का चयन किया जाता है जो सबसे पवित्र होता है वैसे तो अधिकांश  घरों में पूजा के लिए अलग से पूजा स्थल होते है लेकिन कुछ घरों में जगह की कमी होती है इसलिए  घर के रसोईघर में ही पूजा स्थान निर्धारित कर लिया जाता है साथ ही वहां पूजा का मंदिर बना दिया जाता है अगर आप भी किचन में पूजा का मंदिर बनाते है तो कुछ नियमों का जरूर ध्यान रखें 

pic
वास्तु शास्त्र के अनुसार अगर किचन में पूजा में मंदिर रखा जाता है तो उसका रंग लाल होना चाहिए लाल रंग को अग्नि तत्व का प्रतीक माना गया है ऐसे में अगर रसोईघर का रंग भी लाल हो तो वह वाशु की दृष्टि से शुभ माना जाता है अगर लाल रंग न रखना चाहें तो पीला सिल्वर या सफेद रंग भी शुभ माना जाता है 

वास्तु के अनुसार अगर किचन में मंदिर बनवाना अनिवार्य हो तो ऐसे में इसकी दिशा हमेशा पूर्व -उत्तर में होना चाहिए इस दिशा से देवताओं संबंध रहता है ऐसे में इस दिशा में मंदिर रखने से पॉजिटिव एनर्जी प्राप्त होती है इस दिशा में मंदिर रखने से शुभ लाभ का प्रतीक होता है 
वास्तु के अनुसार किचम में स्थित मंदिर में भगवान शिव की फोटो नहीं रखनी चाहिए इसके अलावा शिवलिंग भी नहीं रखना चाहिए ऐसे में किचन में स्थित पूजा में मां अन्नपूर्णा श्रीकृष्ण गणपति और हनुमान जी की फोटो रखनी चाहिए 

pic
किचन में पूजा का मंदिर है तो रखें इन बातों का ध्यान 
रसोईघर में स्थित मंदिर की साफ़ सफाई बहुत जरुरी है 
किचन में पूजा मंदिर है तो ऐसे में झूठे बर्तनों को सिंक में नहीं रखना चाहिए 
रसोईघर में कभी भी जूते -चप्पल पहनकर नहीं जाना चाहिए 
खाना बनाने के बाद सबसे पहले देवी -देवताओं को भोग लगाना चाहिए