मौनी आमवस्या पर करे बस ये काम, दूर होती है सभी समस्या, मन रहता है शांत

 
cvv

साल 2023 की पहली आमवस्या 21 जनवरी शनिवार को पड़ रही है। इस माघ आमवस्या पर पूजा-पाठ, नदी स्नान, तीर्थ दर्शन के साथ ही मौन रहने का पर्व भी रहता है। इस दिन मौन रहने से कई लाभ प्राप्त होते है। पुराने समय में ऋषि मुनि लम्बे समय तक मौन व्रत धारण किया करते थे। कहा जाता है कि मौन रहकर किए ध्यान से पूजा का फल जल्द ही मिलता है। मौन रहने से हमारी वाणी के दोष दूर होते है। हम मौन रहकर गलत बातों को बोलने से बच सकते है और इससे हमारे आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होती है। 

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक पूरे सालभर में एक पर्व ऐसा माना जाता है जो हमे मौन रहने के महत्व रहने के बारे में बताता है। जब हम मौन रहते है तो मन शांत रहता है, दिमाग तेह चलता है और तनाव दूर होता है। मौन रहने से घर-परिवार में वाद-विवाद नहीं होते है। गुस्से में लोगो की बोलती समय अनियंत्रित हो जाते है और पुराने रिश्ते भी टूट जाते है। इसलिए गुस्से के समय मौन धरण कर लिया जाए तो बड़ी बड़ी परेशानियों से बचा जा सकता है। 

मौन व्रत के साथ ही अमावस्या पर कर सकते ये हैं शुभ काम
मौनी आमवस्या पर व्रत अवश्य धारण करना चाहिए। इसके साथ ही पितरों के लिए धूप-ध्यान,तर्पण और श्राद्ध कर्म करें। किसी तीर्थ की यात्रा कर सकते है नदी में स्नान कर सकते है। जरूरतमंद लोगो को धन और अनाज के साथ ही कपड़ो का जूते चप्पल का दान करना चाहिए। गाय को घास, मछलियों को आटे की गोलियां, पक्षियों को अनाज खिला सकते है। 

किसी मंदिर में पूजन सामग्री का दान करे। पूजन सामग्री जैसे कुमकुम, चावल, घी तेल, रुई की बत्तियां, धूप, गुलाल, हार-फूल, प्रसाद के लिए मिठाई आदि। किसी मंदिर का फूलों से श्रृंगार करवा सकते हैं।

हनुमान जी का सिंदूर और चमले के तेल से श्रृंगार करें। धूप-दीप जलाकर हनुमान चालीसा या सुंदरकांड का पाठ करें।

शिवलिंग पर जल, दूध और फिर जल चढ़ाएं। ऊँ नम: शिवाय मंत्र का जप करें। बिल्व पत्र, धतुरा, आंकड़े के फूल आदि चीजें चढ़ाएं। दीपक जलाकर आरती करें।also read यदि आपकी राशि में भी बुध दोष तो निवारण के लिए करे ये खास उपाय, मिलेगा जल्द जल्द फायदा