Margashirsha month 2022 : हिन्दू धर्म में बेहद महत्वपूर्ण है मार्गशीर्ष,इस महीने भूलकर भी नहीं करे ये काम,जानिए क्या करे क्या नहीं ??

 
h

कार्तिक पूर्णिमा के खत्म होने के बाद मार्गशीर्ष माह की शुरुआत बुधवार 9 नवंबर 2022 से हो चुकी है ये 8 दिसंबर 2022 तक रहेगी। इसे अगहन का महीना कहते है। हिन्दू पंचाग के मुताबित यह कैलेंडर का नोवा महीना होता है। इस महीने को बेहद शुभ माना जाता है। वैसे तो यह पूरा माह पूजा -पाठ,व्रत,त्यौहार और शुभ मांगलिक काम के लिए बेहद शुभ होता है।लेकिन अगहन का महीना भगवान राम और श्री कृष्ण  की पूजा आरधना के लिए बेहद फलदायक माना जाता है।इस माह में भगवान राम और श्री कृष्ण से जुड़े कई त्यौहार आते है।ऐसे में हिन्दू धर्म के अनुसार इस माह क्या नहीं करे और क्या करे इससे बारे में बताया गया है तो चलिए जानते है इनके बारे में 
 g

हिन्दू पंचांग के अनुसार मार्गशीष माह में पड़ने वाले हर गुरुवार के दिन श्री हरी विष्णु और देवी लक्ष्मी की पूजा करे।ऐसा माना जाता है की इस माह देवी लक्ष्मी धरती पर आती है।इसलिए जिसे घर में उनकी पूजा -आराधना होती है वहा उनका वास होता है। इसके अलावा इस महीने में दान दक्षिण करना चाहिए। इससे पुण्य प्राप्त होता है।मार्गशीष माह में चांदी का दान करने से पुरुषत्व में वृद्धि होती है।इस महीने में किसी पवित्र नदी में स्नानं करे व इस माह में भगवत गीता का पाठ करे। 

g

हिन्दू धर्म में मार्गशीष महीने में पड़ने वाली सप्तमी और अष्टमी को मास शून्य तिथियां कहा जाता है। इन तिथियों में कोई भी मांगलिक काम नहीं करे।ऐसा करने से वंश और धन का नाश होता है। इस महीने में जीरा का सेवन नहीं करना चाहिए। इसके अलावा इस महीने में तामसिक खाना या मासाहार का स्वेन नहीं करे। पुरे महीने में संध्याकाल में पूजा पाठ करे और तुलसी के पास दिलक जलाए।