Pradosh vrat 2022 : सोम प्रदोष व्रत आज,भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए इन विशेष मंत्रो के साथ करे पूजा

 
g

हिन्दू धर्म में सोमवार का बेहद महत्व माना जाता है। हर सोमवार को ज्यादातर लोग भगवान शिव की पूजा करते है। ऐसा करने से भगवान शिव का आशीर्वाद बना रहता है।हिन्दू पंचाग के मुताबित हर मास कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी के दिन प्रदोष व्रत रखा जाता है। प्रदोष व्रत की पूजा भगवान शिवजी को समर्पित होता है। इस बार यह मार्गशीर्ष मास में सोमवार 21 नवंबर पक्ष की त्रयोदशी के दिन प्रदोष व्रत का त्यौहार मनाया जाता है।इसके बाद अगला प्रदोष व्रत 5 दिसंबर 5 2022 को पड़ेगा। 21नवंबर को पड़ने वाले प्रदोष व्रत को बहुत खास माना जा रहा है।क्युकी यह सोमवार के दिन पड़ रहा है।सोमवार के दिन पड़ने वाले प्रदोष व्रत को सोम प्रदोष व्रत कहा जाता है। 

g

ज्योतिष के अनुसार सोमवार और प्रदोष व्रत दोनों भगवान शिवजी को समर्पित है।ऐसे में इस दिन किये गए पूजा पाठ और व्रत का संपूर्ण फल प्राप्त होगा। प्रदोष व्रत के दिन भगवान शिव की विशेष कृपा प्राप्त करने के लिए कुछ मंत्रो का जाप जरूर करे।इन मंत्रो का जाप करने से भगवान भोलेनाथ का आशीर्वाद मिलता है। 

ज्योतिष के अनुसार महा मृत्युंजय मंत्र - सोम प्रदोष में महा मृत्युंजय मंत्र को बहुत प्रभावी माना गया है।पूजा के दौरान इस मंत्र का कम से कम 108 बार जाप करे।इससे बेहद लाभ होते है।इसमें आलावा शिव गायत्री मंत्र -शिव गैरती मन भगवान शिव को सम्पर्पित सबसे प्रभावी मंत्र है। इस मंत्र जाप को आप प्रदोष व्रत या फिर नियमित रूप से शिवजी की पूजा में कर सकते है।