30 जून से खुलेंगे बाबा अमरनाथ के पट इस गुफा में शिव जी ने माता पार्वती को बताया था अमरता का रहस्य

 
PIC

इस महीने के लास्ट दिन 30 जून से भक्त बाबा अमरनाथ के दर्शन कर पाएंगे इस साल जम्मू कश्मीर की अमरनाथ यात्रा 11 अगस्त तक रहेगी बाबा अमरनाथ की गुफा का इतिहास हजारों साल पुराना है गुफा के अंदर बर्फीले पानी की बूंदें लगातार टपकती रहती है इन्हीं बूंदों से लगभग 10 से 12 फ़ीट ऊँचा बर्फ का शिवलिंग बन जाता है ऐसा माना जाता है की इसी गुफा में शिव जी ने माता पार्वती को अमरता का रहस्य बताया था 

PIC
अमरनाथ शवलिंग की ऊंचाई घटने -बढ़ने का संबंध चन्द्रमा से है पूर्णिमा पे शिवलिंग अपने पुरे आकर में होता है जबकि अमावस्या पर शिवलिंग का आकर कुछ छोटा हो जाता है 
बाबा अमरनाथ की गुफा और श्रीनगर के बीच की दुरी लगभग 145 किलोमीटर है ये गुफा हिमालय पर समुद्र तल से लगभग 13 हजार फ़ीट की ऊंचाई पर है 
गुफा में प्राकृतिक रूप से शिवलिंग बनता है शिवलिंग के साथ ही यहां गणेश जी पार्वती जी भैरव महाराज के हिमखंड भी बनते है 
बाबा अमरनाथ की यात्रा दो रास्तों से की जाती है एक रास्ता पहलगाम और दूसरा सोनमर्ग बालटाल से आता है इस यात्रा के लिए सबसे पहले पहलगाम या बालटाल पहुंचना होता है इसके बाद पैदल यात्रा की जाती है 
पुराने समय में माता पार्वती शिव जी से अमरता का रहस्य जानना चाहती थी 

PIC
जब भगवान शिव जी को अमर कथा सुनाने ले जा रहे थे तो उन्होंने अपने साथ के अनंत नागों को अनंतनाग में छोड़ दिया था और माथे के चंदन को चंदनबाड़ी में उतर दिया और अन्य पिस्सुओं को पिस्सू टॉप वाले क्षेत्र में और गले के शेषनाग को शेषनाग नाम की जगह पर छोड़ दिया था ये सभी स्थान अभी भी अमरनाथ यात्रा के रस्ते में दिखाई देते है 
शिव ने अमरनाथ वाली गुफा में ही देवी को अमरता का रश्य बताया था ऐसा माना जाता है की इस रहस्य को एक शुक नामक कबूतर से सुन लिया था 
वैसे तो गुफा का इतिहास हजारों साल पुराना है लेकिन ऐसा माना जाता है की सबसे पहले एक चरवाहे को इस क्षेत्र में कोई संत मिले थे यह घटना करीब -करीब 300 से 400 साल पुरानी बताई जाती है 
संत ने चरवाहे को  कोयले से भरी हुई एक पोटली दी थी जब चरवाह अपने घर पहुंचा और पोटली को खोला तो उसमें सोना हो गया था यह चमत्कार देखकर वह चरवाहा फिर से संत को खोजने उसी जगह पर पहुंच गया और उस संत को खोजते -खोजते चरवाहे को अमरनाथ की गुफा दिखाई दी