घर की उत्तर-पूर्व दिशा में क्या नहीं रखना चाहिए

 
.

 वास्तु शास्त्र के अनुसार उत्तर-पूर्व दिशा में इलेक्ट्रॉनिक यानी बिजली से जुड़े सामान या गर्मी उत्पन्न करने वाले उपकरणों को नहीं रखना चाहिए।ऐसा करने से पुत्र पिता की आज्ञा नहीं मानता और उनका अपमान करता है।

 वास्तु में घर की उत्तर पूर्व दिशा काफी महत्वपूर्ण मानी गई है। इस दिशा को कुबेर की दिशा माना गया है। इस दिशा में किया गया गलत निर्माण आपकी आर्थिक स्थिति पर बुरा प्रभाव डालती हैं। ऐसे में आइए आज आचार्य इंदु प्रकाश से जानते हैं वास्तु शास्त्र में   उत्तर-पूर्व दिशा में किन चीजों को रखने से बचना चाहिए। 

  वास्तु टिप्स


 आइए आज आचार्य इंदु प्रकाश से जानते हैं वास्तु शास्त्र में उत्तर-पूर्व दिशा में किन चीजों को रखने से बचना चाहिए। बेडरूम में कभी भी कांच या मिरर ऐसी जगह पर न रखें जहां से बेड दिखता हो। इससे घर में निगेटिव एनर्जी फैलती है और स्वास्थ्य संबंधी   परेशानियां भी उत्पन्न होती हैं। इसके अलावा यदि आपका प्लॉट उत्तर व दक्षिण दिशा की ओर से संकरा तथा पूर्व व पश्चिम दिशा में लंबा है तो ऐसी जगह को सूर्य़भेदी कहा जाता है।  आपके प्लॉट या घर की यह बनावट भी पिता-पुत्र के संबंधों में अनबन की स्थिति   पैदा करने वाली होती है।  वास्तु में घर की उत्तर पूर्व दिशा काफी महत्वपूर्ण मानी गई है। इस दिशा को कुबेर की दिशा माना गया है। इस दिशा में किया गया गलत निर्माण आपकी आर्थिक स्थिति पर बुरा प्रभाव डालती हैं।

उत्तर पूर्व दिशा में क्या नहीं रखना चाहिए 

उत्तर-पूर्व दिशा में बिल्कुल भी गंदगी नहीं रखनी चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से आपको आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ सकता है।  इसके साथ ही धन का प्रवाह धीमा हो जाता है। इस दिशा में गंदी चीजे या कूड़ादान भी नहीं रखना चाहिए। क्योंकि इस दिशा में गंदगी होने से यह दिशा दूषित हो जाती है।भूलकर भी घर की उत्तर पूर्व दिशा में न ही जूते-चप्पल रखने चाहिए और न ही जूते-चप्पल का स्थान बनाना चाहिए।  जिसके चलते आपके घर की आर्थिक स्थिति खराब होने लगती है।