पुरानी बाइक और स्कूटर देंगे शानदार माइलेज ,अपनाएं ये टिप्स

 
PIC

माइलेज टू व्हीलर सेक्टर का वो फीचर है जिसे देखते हुए ही अक्सर नए स्कूटर और बाइक को खरीदा जाता है लेकिन जैसे -जैसे बाइक या स्कूटर पुराने होने लगते है तो उनकी माइलेज भी कम होने लगती है जिससे परेशान होकर लोग नया टू व्हीलर खरीदना चाहते है अगर आपकी बाइक या स्कूटर भी पुराना हो चूका है और आप माइलेज को लेकर परेशान है और नया व्हीकल खरीदने का मन बना रहे है तो आज हम आपको कुछ टिप्स बता रहे है जिससे आपकी बाइक की माइलेज नई जैसी हो सकती है 

PIC
अक्सर लोग अपने नए टू व्हीलर की सर्विस तो कंपनी के सर्विस सेंटर से करवाते है लेकिन जैसे वो पुराण होने लगता है लोग अपने आस पास के लोकल मेकेनिक से सर्विस करवाने लग जाते है इसका सीधा असर टू व्हीलर के माइलेज पर पड़ता है इसलिए सर्विस करवाते समय थोड़े पैसे बचाने के लालच छोड़कर अपने टू व्हीलर की सर्विस कंपनी के सर्विस सेंटर पर ही करवानी चाहिए 
इंजन ऑयल डलवाते समय अक्सर लोगों को यह गलतफहमी होती है की सब इंजन ऑयल एक जैसे होते है इसलिए अक्सर कम कीमत वाला इंजन ऑयल डलवाते है मगर ऐसा करना आपकी बाइक के इंजन के लिए खतरनाक साबित होता है क्योकिं सस्ते के चक्कर में लोग मिलावट या घटिया क्वालिटी का इंजन ऑयल डलवाते है सस्ता इंजन ऑयल डालने से  इंजन की परफॉर्मेंस पर प्रभाव पड़ता है जिससे माइलेज कम हो जाता है और साथ ही इंजन के सीज होने का खतरा रहता है 

PIC
अक्सर लोग अपने टू व्हीलर की माइलेज को लेकर शिकायत तो करते है लेकिन कंपनी द्वारा माइलेज के लिए बताई गई स्पीड के अनुसार बाइक नहीं चलते जिससे बाइक ज्यादा माइलेज नहीं देती अगर आप अपनी बाइक से कंपनी  के द्वारा बताई गई माइलेज हासिल करना चाहते है तो बाइक हमेशा 40 से 45 किलोमीटर की स्पीड पर ही चलाएं क्योंकि यह स्टैंडर्ड स्पीड है जिसमें बाइक चलने पर तेल की बचत होती है और माइलेज बढ़ती है 
रेड लाइट पर रुकने के बाद अक्सर लोग अपने टू व्हीलर का इंजन ऑफ नहीं करते जिसके चलते पेट्रोल की खपत ज्यादा होती है क्योंकि खड़े टू व्हीलर का इंजन चालू रहने पर वो नॉर्मल से ज्यादा पेट्रोल की खपत करता है इसलिए रेड लाइट चाहें 1 मिनट हो या 15 सेकंड की वहां इंजन ऑफ कर देना चाहिए