इलेक्ट्रिक वाहन बनाने वाली इन कंपनियों को मिला नोटिस जानिए क्या है वजह

 
PIC

इलेक्ट्रिक वाहनों की बैटरी  में आग लगने की घटनाओं पर खुद संज्ञान लेते हुए केंद्रीय उपभोक्ता संरक्षण प्राधिकरण ने 5 ई -वाहन निर्माता कंपनियों को नोटिस जारी किया हे केंद्रीय उपभोक्ता संरक्षण प्राधिकरण की मुख्य आयुक्त निधि खरे ने कहा की इलेक्ट्रिक वाहनों में आग लगने की घटनाओं पर स्वत : संज्ञान लेते हुए प्राधिकरण ने 5 ई वाहन निर्माता कंपनियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है 

PIC
उन्होंने बताया की CCPA ने DRDO की द्वारा गठित कमेटी से रिपोर्ट भी मांगी है सेंटर फॉर फायर एक्सप्लोसिव एंड एनवायरनमेंट सेफ्टी के विशेषज्ञों की एक टीम ने इलेक्ट्रिक वाहनों में आग लगने के कारणों का पता लगाया हे यह एजेंसी रक्षा अनुसंधान एवं विकास संग़ठन के मांतर्गत काम करती है
इस साल देश भर में ई -स्कूटरों में आग लगने के 38 से ज्यादा मामले सामने आ चुके है इलेक्ट्रिक वाहनों में आग लगने से कुछ लोगों की जान भी गई है पहला मामला इस साल मार्च में पुणे में सामने आया जहां एक ओला स्कूटर में आग लग गई इसके बाद प्योर EV जितेंद्र इलेक्ट्रिक और ओकिनावा के एल्क्ट्रिक स्कूटर में भी आग लगने के कुछ मामले सामने आए है जून में महाराष्ट्र में एक टाटा नेक्सन EV कार में भी आग लग गई है 
अब तक ओला इलेक्ट्रिक ओकिनावा जितेंद्र इलेक्ट्रिक और प्योर EV के इलेक्ट्रिक स्कूटरों में आग लगने के मामले सामने आए है इसके बाद कंपनियों ने अपने हजारों स्कूटरों को मार्किट से वापस मंगा लिया है सरकार ने लोकसभा में जानकारी दी की कंपनियों द्वारा 6000 से ज्यादा ई स्कूटर वापस मंगाए गए है ओकिनावा को 3000 से ज्यादा स्कूटर को वापस बुला चुकी है 

PIC
जाँच कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में बताया है की इलेक्ट्रिक स्कूटरों के बैटरी डिजाइन और मॉड्यूल के साथ -साथ पुरे बैटरी मैनेजमेंट सिस्टम में गंभीर समस्या है जिसके चलते बैटरियों के अधिक गर्म होने से उनमें आग लग रही है जाँच कमेटी ने यह बताया की कुछ बड़ी इलेक्ट्रिक स्कूटर कंपनियां अपने उत्पादों की लागत कम करने के लिए निम्न श्रेणी  की सामग्री का  इस्तेमाल कर रही है 
नई लिथियम बैटरी के मानक के अनुसार अब इलेक्ट्रिक वाहन बनाने  वाली कंपनियों को बैटरी की विश्वसनीयता चार्जिंग क्षमता अलग -अलग वातावरण ओट टेम्प्रेचर में काम करने की क्षमता की जांच के लिए बैटरियों का अलग से परीक्षण करना होगा नए मानकों में लिथियम आयन बैटरियों के परीक्षण से संबंधित प्रक्रिया को भी सूचित किया गया है 
केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी पहले ही EV निर्माताओं को लापरवाही बरतने पर कड़ी  कार्रवाई की चेतावनी दे चुके है गडकरी ने कहा है की अगर कंपनियां इलेक्ट्रिक वाहनों में आग लगने की घटनाओं को नहीं रोक पाती है तो उनपर सरकार दंडात्मक  कार्रवाई  करेगी