कार में इंजन के लिए जरुरी होता है कूलेंट ,जानिए नहीं होने या कम होने पर क्या होगा

 
pic

कार चलाते समय इंजन का थोड़ा गर्म होना सामान्य होता है लेकिन अगर आपकी कार जरूरत से ज्यादा गर्म हो जाती है तो इसके पीछे कई कारण हो सकते है समय रहते अगर इन्हें सही करा लिया जाए तो अच्छा होता है नहीं तो कार को बड़ा नुकसान भी हो सकता है आज हम आपको ऐसी जनजारी दे रही है जिससे आप अपनी कार को ज्यादा गर्म होने से बचा सकते है 

pic
चलती हुई कार के इंजन को ठंडा रखने की जिम्मेदारी कूलेंट की होती है यह एक तरफ का ऑयल होता है जिसका हरा कलर होता है कूलेंट होने पर इंजन ज्यादा चलने पर भी ठंडा रहता है 
कूलेंट का काम सिर्फ इंजन को ठंडा रखना ही नहीं होता बल्कि इसके कुछ और काम भी होते है कार में कूलेंट होने से जंग भी नहीं लगती इसके अलावा इसका काम पुराने एंटी फ्रिज के अवशेषों को हटाना भी होता है 
अगर आपकी कार में कूलेंट की मात्रा कम होती है तो ऐसा होना निश्चित है की आपकी कार हीट हो जाएगी अगर कार में कूलेंट की मात्रा कम रहेगी तो कार में इंजन का तापमान बढ़ जाता है और काफी समय में कार इंजन के कई पार्ट्स पर इसका खराब असर होता है इसके अलावा कार चलते समय कूलेंट की मात्रा कम होने पर इंजन को ज्यादा क्षमता के साथ काम करना पड़ता है जिससे कार का एवरेज भी कम हो जाता है 

pic
गाड़ी चलाते समय कई लोगों को इस बात की जानकारी नहीं होती है की कूलेंट की स्थिति कैसे चैक की जाए कार चलाने वाले को इस बात का ध्यान रखना चाहिए की अगर स्पीडोमीटर कंसोल में कार का तापमान ज्यादा कुल और हॉट के बीच में है तो सब ठीक है लेकिन अगर सुई टॉक की तरह जा रही है तो इंजन में कूलेंट कम हो सकता है सर्दियों में कार का हीटर सही से काम नहीं कर रहा है तो भी कूलेंट कम हो सकता है 
आमतौर पर 1 या 2 सर्विस तक कूलेंट चल जाता है लेकिन अगर आपको कार के इंजन के पास बदबू आ रही है तो तुरंत कूलेंट बदल देना चाहिए कभी भी चालू कार में कूलेंट के ढक्कन को नहीं खोलना चाहिए इंजन को ठंडा करने के कारण कूलेंट का तापमान काफी ज्यादा होता है अगर ऐसे में ढक्कन खोलने की कोशिश की जाती है तो जलने का खतरा होता है