Hydrogen car :अब भारत में जल्द हाइड्रोजन फ्यूल से चलने वाली गाड़िया दौड़ेगी,इसको लेकर नितिन गडकरी का बयान आया सामने

 
h

भारत में जल्द हाइड्रोजन फ्यूल से चलने वाली गाड़िया दौड़ती दिखाई देने वाली है। भारत सरकार लगातार इलेक्ट्रिक और बायो फ्यूल से चलने वाले वाहनो पर जोर दे रही है।केंद्रीय सड़क परिवहन एव राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने बताया की भारत में आम लोगो को कब से हारड्रोजन कार मिलने शुरू होगी।उन्होंने मंगलवार को हुए ज़ी ऑटो अवार्ड 2022 में जानकारी दी। इसके दौरान उन्होंने प्रदूषण का दो तरफा इलाज भी बताया .नितिन गडकरी ने बताया की पराली से ईंधन बनाया जा रहा है ,जो हाइड्रोजन कार में प्रयोग किया जा सकेगा.नितिन गडकरी भारत की पहली हाइड्रोजन कार में सफर करके अवार्ड में शामिल होने पहुंचे। 

g

हाइड्रोजन कार की मेन्युफेक्चरिंग अब भारत में होगी। इसका प्रोसेस शुरू किया जा चूका है .अभी हाइड्रोजन तीन तरीके से बन रहा है। ब्लैक हाइड्रोइजन जो प्रेट्रोलियम से बनता है .इसका तीसरा प्रकार ग्रीन हाइड्रोइजन है .ये हाइड्रोइजन मिनिसिपल वेस्ट ,सीवेज वाटर या पानी से बनाया जा सकता है। 

गडकरी का कहना है की 'हम नगर पालिका के कचरे से ग्रीन फ्यूल बनाना चाहते है। हम ईंधन आयात नहीं,बल्कि निर्यात करना चाहते है। उनका कहना है की हम खेती के वेस्ट से भी एनर्जी बना सकते है।इसके लिए हमें इलेक्ट्रोलाइजर की जरूत है जो भारत में सबसे ज्यादा बनता है। इसका काम ऑक्सीजन अलग कर हाइड्रोजन बनाना। इसके लिए हमें जेनरेटर की जरूरत है जो अब इथेनॉल फ्यूल बेस्ड बना दिया गया है।' 

h

नितिन गडकरी का कहना है की एक समय उनकी पत्नी भी उनकी बात पर भरोसा ही करती थी की पानी से फ्यूल बनाकर कार चलेगी। इसलिए उन्होंने सोचा की वह अब इसी में ऑफर करे।सड़क परिवहन मंत्री गडकरी के अनुसार भारत में डेढ़ दो साल में लोग हाइड्रोजन कार चला सकेंगे ,उनकी कोशिश है की 80 हजार किलो हाइड्रोजन मिल सके .1 किलो हाइड्रोइजन में कार 400 किलोमीटर चल सकेगी।