आटोमोबाइल की श्रेणी में नंबर वन पर आ सकता है भारत, इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री में सबसे तेज

 
cvcv

देश और दुनिया की तीसरी बड़ी कार कंपनी टाटा मोटर्स का कहना है कि भारत इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री वैश्विक स्तर पर करने के लिए पूरी तरह से तैयार है और टाटा मोटर्स ने इसके लिए रणनीति भी बना ली है। दूसरी कार कंपनियों की तरह टाटा मोटर्स सिर्फ पैंसेंजर इलेक्ट्रिक वाहन बाजार तक सिमित नहीं करना चाहती है बल्कि काम्बी दूरी तय करने वाले हेवी ट्रकों से लेकर गली-मोहल्लों में चलने वाले छोटे कमर्शियल इलेक्ट्रिक वाहन भी बनाने की योजना पर भी काम कर रही है टाटा मोटर्स का कहना है कि वर्ष 2023 तक उसके कुल वहां उत्पादन का 50 फीसदी  इलेक्ट्रिक वाहनों को होगा। 

भारत होगा ईवी का  वैश्विक आपूर्ति केंद्र
टाटा मोटर्स का कहना है कि पैसेंजर्स व्हीक्लस और टाटा पैसेंजर इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के एमडी शैलेश चंद्रा ने बताया कि उनकी कंपनी यह सोच कर अपनी रणनीति तैयार कर रहे है कि भारत इलेक्ट्रिक वाहनों का एक वैश्विक आपूर्ति केंद्र और बड़ा निर्यातक के तौर पर स्थापित करने के लिए तैयार है । 

पहली बार ऐसा नहीं हो रहा है कि भारत और विश्व के दूसरे आटोमोबाइक बाजार के साथ में इलेक्टिक वाहनों के रास्तें पर जा सकते है। अभी तक केवल पेट्रोल और डीजल से चलने वाले आटोमोबाइल में उन्नत तकनीक लंबे अरसे बाद भारत आता था लेकिन अब दुनिया के किसी भी दूसरे देश के पास ईवी को बढ़ावा देने वाली भारत जैसा माहौल नहीं है।

इवी निर्माण के मामले में भारत है बेहद कुशल 
भारत में देश का बहुत बड़ा बाजार है। यहाँ पर कार खरीदने वालो कि संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए निर्माण के लिए जैसा कार्यकुशल श्रम चाहिए वैसा भारत के पास है, इलेक्ट्रिक वाहनों में सॉफ्टवेयर का बहुत योगदान होता है। भारत के जैसा सॉफ्टवेयर प्रतिभा और कहि नहीं मिल सकता है। सुजुकी मोटर कार्पोरेशन के निदेशक तोशीहीरो सुजुकी भी मानते हैं कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा ऑटो बाजार है। यहाँ कार बनने के लिए लाखो की संख्या में श्रमिक है। लेकिन इन सब में समय अधिक लगता है। 

सबसे बड़ा आटोमोबाइल बाजार बन सकता भारत
पिछले वर्ष भारत में कुल 42.5 वाहनों की बिक्री हुई है जबकि अभी तक तीसरे नंबर पर रहने वाले देश जापान में 42 लाख वाहनों की बिक्री हुई है। चीन पहले स्थान पर (2.6 करोड़ बिक्री) व अमेरिका दूसरे स्थान (1.54 करोड़) पर है। हुंडई मोटर इंडिया के एमडी अनसू किम ने भी बताया कि भारत सबसे बड़ा आटोमोबाइल बाजार बन सकता है।also read : 
Budget 2023 : भारत के ईवी क्षेत्र का क्या इंतजार है