सरकार ने किया Central Motor Vehicle Rules में बड़ा बदलाव, कार ही बल्कि बस और ट्रक पर भी होगा लागू

 
zxzx

हाल ही में सरकार ने Central Motor Vehicle Rules में काफी बड़ा चेंजेज किया है। आपको बता दे, सरकार ने गाड़ियों की फिटनेस सर्टिफिकेट की वैलिडिटी तय कर दी है इसकी खास बात यह है कि नया नियम सिर्फ कार जैसे वाहनों में नहीं बल्कि ट्रक और बस जैसे वाणिज्यिक वाहनों पर लागू होगा।  

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय की ओर से जारी हुए नोटिफिकेशन में कहा गया है कि 8 साल तक पुरानी गाड़ियों का फिटनेस सर्टिफिकेट 2 साल तक वैध रहेगा और जबकि इससे ज्‍यादा पुरानी गाडि़यों का फिटनेस सर्टिफिकेट सिर्फ 1 साल तक वैध रहेगा और इन गाड़ियों का फिटनेस हर साल बनवाना जरूरी है। यह नियम कॉमर्शियल लाइट मोटर व्हिकल (LMVs) के अलावा बड़ी और मध्‍यम आकार की सामान व सवारी ढोने वाली गाड़ियों पर भी लागू होगा। सरकार की मंशा है कि सभी गाड़ियों का फिटनेस सर्टिफिकेट एक निश्चित समय अंतराल पर बनाया जाना चाहिए। 

गाड़ियों का फिटनेस टेस्ट सिर्फ पंजीकृत ऑटोमेटेड टेस्टिंग स्‍टेशन से ही कराना होता है इसके लिए कानून के तहत निर्धारित मापदंड भी तय किए गए है इसके लिए एक नया नियम लाया गया है जिसके तहत गाड़ी का रजिट्रेशन कराना बेहद जरुरी है उसी क्षेत्र में बने टेस्टिंग स्टेशन में इसका फिटनेस सर्टिफिकेट भी बनाया जाना चाहिए। 

सरकार की तरफ से मिल रही है छूट 
आपको बता दे, सरकार ने गाड़ियों का फिटनेस सर्टिफिकेट बनवाने के लिए एक अक्टूम्बर 2024 तक का समय निश्चित किया है और नया नियम जैसे  सेंट्रल मोटर व्हिकल रूल्‍स, 2023 के नाम से लागू होगा इसमें गाड़ियों का रजिस्‍ट्रेशन रिन्‍युवल कराते समय उसका फिटनेस सर्टिफिकेट बनवाना अनिवार्य कर दिया गया है। also read : 
जानिए क्यों, आर्मी केंटीन में मिलने वाली शराब आम शराब की तुलना में होती सस्ती, यह रही असली वजह