भगवान शिव हमेशा बैठे रहते है ध्यान मुद्रा में, क्या आप जानते है इसके पीछे का राज

 
zc

भगवान शिव हमेशा एक आसन मुद्रा में बैठे हुए तो आपने अवश्य देखा होगा। लेकिन आपने कभी सोचा है इसके पीछे क्या कारण है ? आखिर भगवन शिव किसकी आराधना करते है। शिवजी हमेशा ध्यान की अवस्था में बैठे हुए रहते है। संपूर्ण सृष्टि के कर्ताधर्ता हैं, वह हमेशा किसकी उपासना किया करते हैं। अगर आप इसके पीछे का सही कारण नहीं जानते है तो आज हम आपको इस आर्टिकल में इस बात की जानकारी देने जा रहे है। तो चलिए जानते है।  

sfsd

भगवान शिव किसकी आराधना करते है
शिव पुराण में इस बात का जिक्र किया गया है कि भगवान शिव जो इस सृष्टि के आदि और अंत माने जाते है। ऐसे में भगवन शिव जो कि सम्पूर्ण सृष्टि का संचालन करते है। हर व्यक्ति को उसके कर्मो के अनुरूप फल प्रदान करते है। इसके साथ ही भगवान शिव न केवल देवताओं के बल्कि असुरों के भी देवता है। भगवान शिव को सारा संसार पुजता है। 

भगवान शिव के विभिन्न नाम 
भगवान शिव के द्वारा दिए गए वरदान व्यक्ति को जीवन में सफलता के शीर्ष तक पहुँचता है। भगवान शिव जिन्हें भोलेनाथ, नीलकंठ, शंकर भगवान, अर्धनारीश्वर के नाम से जाना जाता है। वह अक्सर ध्यान मुद्रा में मग्न होकर बैठे रहते है। इसे लेकर एक बार माता पार्वती ने भी उनसे पूछा था कि हे ईश्वर ! आप तो स्वयं देवों के देव हैं, आप किसका ध्यान कर रहे हैं। तो इस बात पर भोलेनाथ ने उन्हें जवाब दिया कि वह भगवान विष्णु और भगवान श्रीराम का ध्यान करते है। क्योकि विष्णु के अवतार श्री राम ही ऐसा नाम है, जिसका जाप भगवान विष्णु के हजार नाम के बराबर है, इस कारण ही भगवान श्रीराम के आराध्य माने जाते है। और भगवान शिव भगवान राम की आराधना करते है।