Agri Scheme: देश-विदेश में लगातार बढ़ रही है इस लकड़ी की डिमांड, सरकार दे रही है 50 % तक की सब्सिडी, कहीं हाथ से न निकल जाए शानदार मौका

 
xvc

इस समय देश-विदेश में लकड़ी की मांग में काफी जा ज्यादा इजाफा देखने को मिला रहा है।  फर्नीचर, प्लाईवुड से लेकर पानी के जहाज और ना जाने कितनी ही चीजों को बनांने में लकड़ी का इस्तेमाल किया जाता है। यही वजह है कि अब पेड़ो की गिनती केश क्रॉप में की जाती है। पेड़ो की खेती को अब फिक्स डिपॉजिट की तरह से रखा गया है। आप थोड़े से खर्चे में लाखो रूपये का मुनफा कम सकते है। ये पूरी तरह से आपके पेड़ की वेरायटी पर निर्भर करता है। इन दिनों में इंटरनेशनल मार्केट में चन्दन की डिमांड में काफी ज्यादा इजाफा हो रहा है। इसके साथ ही सागवान की डीएमंड भी काफी ज्यादा बढ़ रही है। 

बता दे, सागवान की लकड़ी को बेहद कीमती लकड़ी माना जाता है। इन दिनों ऑफिस या फिर ज्यादातर फर्नीचर के समान में सागवान की लकड़ी का ही इस्तेमाल किया जाता है। केंद्र सरकार भी इसके लिए अनुदान मुहैया करवा रही है। आपको बता दें, छत्तीसगढ़ की सरकार किसानों को सागवान की खेती करने के लिए 100% तक सब्सिडी दे रही है। 

कैसे मिल रही सब्सिडी 
इसके लिए किसानो को 5 एकड़ जमीन पर करीब 5 हजार से पौधे लगाने के लिए 100 % अनुदान मुहया करवाया जा रहा है। हालाँकि पांच एकड़ जमीन पर यह पौधे लगाना कहते है तो आपको 50 % सब्सिडी दी जाएगी। 

  • यदि आप टिशू कल्चर तकनीक से सागवान की कृषि कर रहे है तो आपको 25 हजार रूपये दिए जाएंगे और आपको 3 साल के नादेर भुगतान करना होगा। 
  • इसके लिए पहली क़िस्त में आपको 11 हजार रूपये, दुस्तरी क़िस्त में 7 हजार रूपये और तीसरी क़िस्त में  7000 रुपये  लाभार्थी किसानों को दिए जाएंगे.
  • इतना ही नहीं, इस स्कीम के तहत किसान के डिमांड के आधार पर सागवान के नि:शुल्क पौधे उपलब्ध करवाए जाएंगे। 
  • इसके लिए अनुदान की राशि सीधा लाभार्थी के बैंक खाते में ट्रांसफर की जाए। 
  • एक बार पौधों की रोपाई करने के बाद जीवित पौधों के आधार पर ही अनुदान की दूसर और तीसरी अनुदान की किस्त लाभार्थी को मिलेगी। 

समर्थन मूल्य में खरीद सकते है पेड़ 
बता दे, मुख्यमंत्री वृक्ष संपदा योजना के तहत सहयोगी संस्था या निजी कम्पनियो की भागीदारी ये प्रस्ताव किया जा सकता है। जिसके तहत हितग्राहियों से निर्धारित समर्थन मूल्य पर पेड़ों को वापस खरीदा जा सकता है।.इसके अलावा सागवान के पेड़ तैयार होने पर इसकी लकड़ी छाल और दूसरे उत्पादों की बिक्री में खुद राज्य सरकार भी किसानों की मदद करेगी। 

कैसे कर से सकते है आवेदन 
मुख्यमंत्री वृक्ष संपदा योजना के तहत सागवान की खेती पर अनुदान का लाभ लेने के लिए अपने नजदीकी वन विभाग के कार्यालय में संपर्क कर सकते हैं। यहाँ से वन विभाग के अधिकारी किसान को फॉर्म देंगे। जिसमे मांगी गयी सभी जानकरी और कागज आपको देने है। इन कागजो में आपसे किसान का आधार कार्ड, निवास प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र, बैंक पासबुक की कॉपी, खेत का खसरा-खतौनी, आधार से लिंक मोबाइल नंबर, पासपोर्ट साइज फोटो आदि शामिल है| also read : 
सरसों के तेल की MRP में नए सिरे हुए बदलाव, या देखे प्रति टीन और क्विंटल के थोक भाव