सरसों के तेल की MRP में नए सिरे हुए बदलाव, या देखे प्रति टीन और क्विंटल के थोक भाव

 
xxcx

 दिल्ली तेल-तिलहन बाजार में शुक्रवार को सोयाबीन डिगम तेल तथा कच्चा पामतेल और पामोलीन तेल कीमतों में गिरावट दर्ज की गयी है। सरसों मूंगफली तेल तिलहन, सोयाबीन तिलहन, सोयाबीन दिल्ली और इंदौर तेल और बिनोला तेल के दाम में पूर्वस्तर पर बंद हुए। 

सूत्रों के मुताबिक मलेशिया एक्सचेंज में 1.75 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गयी है जबकि शिकॉगो एक्सचेंज में 1.7 प्रतिशत की गिरावट रही है। उन्होंने कहा कि विदेशो में एक बार फिर से कमी दर्ज कि गयी है। इससे खुश होने के बजाय सभी को चिंता करने की जरूरत है क्योकि यह देश के तेल तिलहन कारोबार की कमर तोड़ रहा है। 

देश में तेल का स्टॉक हो जाएगा जमा 
सरकार ने विशेषकर हलके तेलों के आयत पर शुक्लक नहीं बढ़ाया तो देशी तिलहन बाजार में खपेंगे नहीं और इसका बड़ा स्टॉक जमा हो जायेगा। इस मामले में समय रहते हुए कदम उठा लेने चाहिए। अगर स्टॉक बाजार में खपा नहीं तो किसान आगे कैसे तिलहन खेती कर पायेंगे? उन्होंने कहा कि देश के कम आय वर्ग के लोगों में पामोलीन की खपत है जो उन्हें सस्ता मिलना जारी रहने की उम्मीद है पर थोड़ा समृद्ध परिवार हल्के तेलों में सोयाबीन, सरसों, मूंगफली, सूरजमुखी और बिनौला जैसे तेल खाते हैं।

MRP बन रहा है Pivot Point 
तेलों के अंधधुंध सस्ते आयात को नियंत्रित करना जरुरी हो गया है ताकि देश के किसान हितो को नुकसान न पहुंचे। संभव हो सकता है तो विश्व व्यापाए संगठन कि शुल्क लगाने कि जो अधिकतम सीमा है वहां तक हल्के तेलों पर आयात शुल्क लगाने के बारे में सोचना जरुरी होगा। देशी तेल तिलहनों कि तेजी को अधिकतम खुदरा मूल्य की मुस्तैद निगरानी और इसे दुरुस्त करते हुए ठीक किया जा सकता है।

देशी तेल होगा और सस्ता 
इसके अलावा शुल्क लगाने से तेलों के दाम सस्ते भी होंगे क्योंकि देशी तिलहन से हमें खल और डीआयल्ड केक (डीओसी) सस्ता मिलेगा जिससे दूध, अंडे, चिकेन, मक्खन के दाम कम हो सकते हैं। लोगों को रोजगार मिलने के साथ ही साथ महत्वपूर्ण विदेशीमुद्रा का खर्च कम होगा। सस्ते आयात का दवाब होने के बावजूद हल्की फुल्की मांग के बीच सरसों, मूंगफली तेल तिलहन, सोयाबीन दिल्ली एवं इंदौर तेल, बिनौला तेल और सोयाबीन तिलहन के दाम पूर्ववत रहे। दूसरी ओर विदेशी बाजारों में गिरावट का रुख रहने से सीपीओ, पामोलीन और सोयाबीन डीगम तेल में गिरावट आई। also read : 
कृषि के साथ कर रहे पशुपालन तो सरकार की ये योजनाएँ आपके आएगी बेहद काम, मिलेगा जबरदस्त फायदा