गाय भैंस के संतुलित आहार से बढ़ाए दूध की मात्रा ,जानिए आप भी

 
PIC

भारत में प्राचीन काल से ही पशुपालन किया जाता है और गाय भैंस जैसे दुआरु पशुओं को दूध उत्पादन की दृष्टि से पाला जाता है कई पशुपालको के शिकायत रहती है की उनका पशु दूध कम देता है या दूध की गुणवत्ता में कमी है इसका मुख्य कारण जानवर के खानपान में कमी या फिर पशु स्वस्थ्य नहीं है इसके लिए आपको पशु आहार पर ध्यान देना चाहिए 

PIC
जानवरों में दूध की मात्रा और गुणवत्ता उनको खिलाएं जाने वालर आहार पर निर्भर करती है अगर पर्याप्त मात्रा में पशु को संतुलित आहार जिसमें सूखा चारा हरा चारा इसके सलवा दलिया गुड़ व कोई अन्य प्रकार के पौष्टिक आहार दे रहे है तो इसमें इसकी मात्रा पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है संतुलित आहार से पशु स्वस्थ रहता है साथ ही दूध देने की क्षमता में सुधर होता है 
जानवरों को उसकी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए एक दिन में जितना चारा व दाना दिया जाता है वह मात्रा राशन कहलाता है पशु को उसके शरीर के भर के अनुसार उसके जीवित रहने के लिए जीवन निर्वाह आहार वृद्धि उत्पादन व कार्य के लिए वर्धक आहार की जरूरत होती है 
जीवन निर्वाह आहार -यह आहार पशु को जीवित रहने के लिए जरुरी होता है इस आहार से केवल पशु अपना जीवन निर्वाह कर सकता है इस आहार को देने से दूध की मात्रा को नहीं बढ़ाया जा सकता है यह आहार सिर्फ उसकी बॉडी को चलाने के लिए जरुरी होता है 
वर्धक आहार -पशुओं को वृद्धि उत्पादन और कार्य के लिए वर्धक आहार की जरूरत होती है इस आहार से पशुओं में दूध की मात्रा में वृद्धि होती है इस आहार के सेवन से पशु स्वस्थ रहता है और वृद्धि करता है इससे पशुओं की दूध देने की क्षमता बढ़ने लगती है 
पशुओं में 400 किलोग्राम वजन की गाय एवं भैंस को रोजाना 10 से 12 किलोग्राम शुष्क पदार्थ की आवश्यकता पड़ती है इस शुष्क पदार्थ को हम चारे या दाने में बांट सकते है शुष्क पदार्थ में लगभग एक तिहाई हिस्सा दाने के रूप में खिलाया जाता है 
पशुओं में आहार की मात्रा उसकी उत्पादकता तथा प्रजनन की अवस्था पर निर्भर करती है मोटे चारे में दलहनी तथा चारे का मिश्रण दिया जा सकता है दलहनी चारे की मात्रा आहार में बढ़ने से काफी हद तक दाने की मात्रा को कम किया जा सकता है खाने में सूखा चारा हरा चारा और पशु आहार को शामिल करें ताकि सभी पोषक तत्व सही मात्रा में मिल सकें 

PIC
अगर पशु आहार में हरा चारा शामिल है तो पौष्टिक मिश्रण में 10 -12 % पाचक प्रोटीन मात्रा होनी चाहिए हरा चारा नहीं है तो दाने में इसकी मात्रा कम से कम 18 % होनी चाहिए 
10 -12 % पाचक प्रोटीन मात्र होनी चाहिए अगर हरा चारा नहीं है तो दाने में इसकी मात्रा कम से कम 18 % होनी चाहिए 
पशुओं को 100 किग्रा शरीर भर पर 8 से 10 ग्राम खाने का नमक रोजाना देना चाहिए इसके अलावा 2 % खनिज आहार में शामिल करना चाहिए 
उत्पादन आहार वह होता है जिसमें पशु को जीवन निर्वाह आहार के अलावा उसके दूध उत्पादन के लिए दिया जाता है जीवन निर्वाह के अतिरिक्त गाय को  प्रत्येक 2.5 लीटर दूध के पीछे 1 किलो दाना तथा भैंस को M2 लीटर दूध के पचे 1 किलो दाना है पशु में दूध उत्पादन तथा जीवन निर्वाह के लिए साफ पानी में कम से कम दिन में 3 बार पानी पिलाना चाहिए 
पशु को गर्भवस्था के 5 वे महीने में अतिरिक्त आहार दिया जाता है क्योकिं इस समय के बाद गर्भ में पल रहे बच्चे की वृद्धि तेजी से होती है 5 महीने से ऊपर की गाभिन गाय को 1 से 1.5 किलो दाना रोजाना देना चाहिए