यूरिया DAP से भी सस्ता हे ये फर्टिलाइजर ,फसल की उपज बढ़ाने में किसी वरदान से कम नहीं

 
PIC

इंडिया में खरीफ फसलें अपने चरम पर है और जल्द ही किसान रबी फसलों की तैयारी में लग जाएंगे ऐसे में किसानों को फसलों के बेहतर पैदावार हासिल करने की होड़ रहती है कई किसान अधिक उत्पादन की होड़ में यूरिया DAP का माधिक इस्तेमाल करने लगते हे जिससे मिटटी की सेहत के साथ -साथ पर्यावरण पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है

PIC
यही कारण है की एक्सपर्ट्स हमेशा ही उर्वरकों के इस्तेमाल को लेकर एतिहाद बरतने की सलाह देते है क्योकि यह उर्वरक महंगे तो होते है कभी कभी फसलों पर बिपरीत असर डालते है लेकिन एक उर्वरक ऐसा भी है जो यूरिया DAP से खिन ज्यादा सस्ता और टिकाऊ होता है कभी -कभी यह फसलों पर बिपरीत प्रभाव छोड़ता है यह दलहन और तिलहनी फसलों के बेहतर पैदावार के लिए फर्टिलाइजर किसी वरदान से कम नहीं है किसान मिटटी की जांचज के आधार पर इसका इस्तेमाल कर सकते है 
सिंगल सुपर फॉस्फेट एक बहुत सस्ता और टिकाऊ उर्वरक हे जिसमें करीब 16 % फास्फोरस और 11 % सल्फर होता हे कृषि विशेषज्ञों के अनुसार दूसरे उर्वरक की तुलना में दलहन और तिलहनी फसलों के लिए सल्फर काफी लाभकारी होता हे इससे न सिर्फ तिलहन फसलों में तेल की मात्रा बढ़ती है वहीं दलहनी फसलों में भी इसके इस्तेमाल से प्रोटीन की मात्रा में बेहतरी देखी गई है 
सिंगल सुपर फॉस्फेट में मौजूद पोषक तत्वों से मिटटी की कमियां ठीक हो जाती है और बिना किसी नुकसान के फसलों के बेहतर पैदावार मिलती है फसलों के बेहतर परिणाम प्राप्त करने के लिए जैविक खाद जैव उर्वरक और रासायनिक खाद के साथ मिलकर सिंगल सुपर फॉस्फेट का उपयोग करना चाहिए 

PIC
इंडिया एक कृषि प्रधान देश है यहां की ज्यादातर आबादी अपनी आजीविका के लिए खेती -किसानी पर ही निर्भर करती है इन बीच किसानों का सबसे पहला उद्देश्य यही होता है की फसलों की पैदावार के साथ -साथ उनकी क्वालिटी को भी बेहतर बनाया जाए सरकार उर्वरकों की खरीद के लिए सब्सिडी भी देती है सिंगल सुपर फास्फेट सिर्फ यूरिया DAP से सस्ता नहीं है बल्कि फसलों के लिए काफी असरकारी है इससे खेती की लागत कम होगी अच्छी पैदावार से किसानों का मुनाफा भी बढ़ेगा