Wheat cultivation : देश में गेहू की रिकॉर्ड रकबे में हुई बुवाई,दलहन,तिलहन की बुबाई में हुआ इजाफा

 
h

देश में अनाज भंडारण और पैदावार को लेकर आने वाले सालो में कोई संकट नहीं है।गेहू की बुआओँ के जो आकड़े सामने आ रहे है।आकड़ो ने सरकार और देश के आमजन को काफी हद तक राहत दी है।केंद्र सरकार के रिकॉर्ड के मुताबित देश में अभी तक गेहू की रिकॉर्ड बुबाई को चुकी है।अच्छी बात यह है की देश के अधिकतर हिस्सों में अभी भी किसान गेहू  ही बुबाई कर रहे है। also read : भारत मोटे अनाजों की बुवाई में नंबर एक पर, यहाँ लोग आज भी बाजरा से कमाते है अच्छा मुनाफा

देश में 3.32 करोड़ हेक्टेयर में हुई बुबाई 

पिछले साल गेहू बुबाई की उतनी बेहतर नहीं रही थी।रकबा भी काम था।वही उपज के मामले में भी पिछले साल कुछ अच्छा कमाल नहीं कर रहा था। ज्यादा लू चलने के कारण पैदावार पर असर हुआ था।लेकिन इस साल गेहू की बुआई को लेकर एकदम अनुकूल बानी हुई है।रबी की फसलों की बुआई आखरी चरण में है।देश में सर्वाधिक क्षेत्र में गेहू बोया गया है।इस साल गेहू का रकबा पिछले कई सालो के उच्चतम सत्र 3.32 करोड़ हेक्टेयर पर पहुंच गया है। 

लक्ष्य से ज्यादा पैदा हो सकते है गेहू 

देश में आलू और गेहू की बुआई अभी भी चल रही है।आलू और पछेती गेहू की बुआई देश के कई राज्यों में चल रही है।यह देश के अधिकांश राज्यों में रह सकती है।पिछले साल गेहू की पैदावार निर्धारित लक्ष्य 11.20 करोड़ टन रखा गया था।इस साल निर्धारित लख्य से ज्यादा गेहू होने की उम्मीद है।खरीफ की सीजन में बारिश होने के कारण इस बार मौसम में नमी ज्यादा बानी हुई है। 

पिछले दो सालो में इतने हेक्टेयर में हुई थी गेहू की बिवाई 

पिछले सालो से लगातार गेहू की बुबाई का आकंड़ा बढ़ता जा रहा है। साल 2020 में 3 करोड़ हेक्टेयर में बुवाई की गयी थी। साल 2021 में गेहू बुबाई का आकड़ा बढ़कर 3.15 करोड़ हेक्टेयर हो गया था।इस साल गेहू बुवाई का आकड़ा बढ़ा है।अभी तक 3.32 करोड़ हेक्टेयर में गेहू की बुबाई की जा चुकी है। 

दलहन तिलहनी फसलों की इतनी बिबाई 

दलहन और तिलहनी फसलों की बुबाई पर भी केंद्र सरकार नजरे बनाये हुए है।चली सीजन में दलहनी फसलों की बुवाई 1.58 करोड़ हेक्टेयर में हो चुकी है। पिछले साल इस समय तक 1.56 करोड़ हेक्टेयर में बुआई हो सकीय है। चना की बुबाई पीछे साल kw 1.09 करोड़ हेक्टेयर की तुलना में 1.07 करोड़ हेक्टेयर हो गयी है।तिलहनी फसलों का रकबा बुबाई के मामले में बढ़ गया है।इस साल अकड़ा बढ़कर 1.05 करोड़ हेक्टेयर हो गया यह।